अप्रैल में रिकॉर्ड स्तर पर GST कलेक्श

अप्रैल में रिकॉर्ड स्तर पर GST कलेक्शन, इतने लाख करोड़ सरकारी खजाने में

Posted 6 months ago in News and Politics.

User Image
Shubhashish Sharma
76 Friends
2 Views
1 Unique Visitors
माल एवं सेवा कर संग्रह (GST Collection) अप्रैल महीने में 1.13 लाख करोड़ रुपये के नए रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया. इससे पिछले महीने जीएसटी संग्रह 1.06 लाख करोड़ रुपये रहा था. एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि अप्रैल, 2019 में जीएसटी राजस्व 1,13,865 करोड़ रुपये रहा. इसमें केंद्रीय जीएसटी संग्रह 21,163 करोड़ रुपये, राज्य जीएसटी (एसजीएसटी) 28,801 करोड़ रुपये, एकीकृत जीएसटी 54,733 करोड़ रुपये और उपकर संग्रह 9,168 करोड़ रुपये रहा. बुधवार को जारी बयान में कहा गया है कि 30 अप्रैल तक मार्च महीने के लिए कुल 72.13 लाख संक्षिप्त बिक्री रिटर्न जीएसटीआर-बी दायर किए गए.

देश में माल एवं सेवाकर व्यवस्था लागू होने के बाद पिछले महीने मार्च में जीएसटी संग्रह सबसे ऊंचा रहा था.

अप्रैल, 2018 की तुलना में अप्रैल, 2019 में जीएसटी संग्रह 10.05 प्रतिशत बढ़ा है. पिछले साल अप्रैल में जीएसटी संग्रह 1,03,459 करोड़ रुपये रहा था. सरकार ने नियमित निपटान के तहत आईजीएसटी से 20,370 करोड़ रुपये का सीजीएसटी और 15,975 करोड़ रुपये का एसजीएसटी का निपटान किया.

GST कलेक्शन मार्च में नए रिकॉर्ड पर, 1.06 लाख करोड़ रुपये की वसूली

इसके अलावा केंद्र के पास अस्थायी आधार पर बचे 12,000 करोड़ रुपये के आईजीएसटी का 50:50 अनुपात में केंद्र और राज्यों के बीच निपटान किया गया. नियमित और अस्थायी आधार पर किए गए निपटान के बाद अप्रैल, 2019 में केंद्र और राज्य सरकारों को 47,533 करोड़ रुपये का सीजीएसटी राजस्व मिला, जबकि एसजीएसटी राजस्व 50,776 करोड़ रुपये रहा.

प्रॉपर्टी में इन्वेस्ट करने वालों के लिए खुशखबरी, खरीदारों की पहली पसंद बने रेडी-टू-मूव इन फ्लैट

वित्त वर्ष 2019-20 में सरकार ने सीजीएसटी से 6.10 लाख करोड़ रुपये और मुआवजा उपकर से 1.01 लाख करोड़ रुपये जुटाने का प्रस्ताव किया है. आईजीएसटी का शेष 50,000 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है. वित्त वर्ष 2018-19 में सीजीएसटी संग्रह 4.25 लाख करोड़ रुपये और मुआवजा उपकर 97,000 करोड़ रुपये रहा. पिछले महीने माल एवं सेवा कर संग्रह 2018-19 के औसत मासिक जीएसटी राजस्व 98,114 करोड़ रुपये के मुकाबले 16.05 प्रतिशत ऊंचा रहा.

More Related Blogs

Article Picture
Shubhashish Sharma 6 months ago 2 Views
Article Picture
Shubhashish Sharma 7 months ago 6 Views
Article Picture
Shubhashish Sharma 7 months ago 26 Views
Back To Top