कुछ तस्वीरें जो केवल पुराने जमाने के बच्चे समझेंगे

नब्बे के दशक के बच्चों की खट्टी मीठी यादें।आइए गाड़ी को रिवर्स गियर में डाल कर सैर कर आते हैं।

Posted 7 months ago in Other.

User Image
Ravi Pathariya
35 Friends
3 Views
57 Unique Visitors
नब्बे के दशक के बच्चों की खट्टी मीठी यादें।आइए गाड़ी को रिवर्स गियर में डाल कर सैर कर आते हैं।

1.-. स्कूल ख़त्म होने के बाद बाहर ये मीठी रबड़ जैसी चीज़ खाना। बेचने वाला बच्चों की फ़रमाइश पर इस में अलग अलग डिज़ाइन बना कर देता था जैसे कभी साइकल, कभी मुर्ग़ा, कभी स्टिक पर चढ़ता बन्दर।


Third party image reference
2.-. दीवाली पर ये रील और टिकली वाली बन्दूक़। इसको चलाने पर बहुत बार इसकी निकली चिंगारी अपने ही हाथ पे लग कर जलन दे जाती थी।


Third party image reference
3.-. क्लास में थोड़ा सा फ़्री होते ही ये शरारत करना


Third party image reference
4.-. कॉपी में मोर पंख रखना लकी माना जाता था। कुछ बच्चे कबूतर का सफ़ेद पंख भी रखते थे।


Third party image reference
5.-. जब गणेश जी को पूरे देश ने दूध पिलाया था। कैसे सारे मन्दिरों में दूध की नदियाँ बह गयी थी।


Third party image reference
6.-. क्या पेंसिल के छिलकों को दूध में डालने से रबर बना कभी?


Third party image reference
7. समस्त भारतीय मेरे भाई-बहन है.. एक को छोड़कर! फिर ठहाका।


Third party image reference
8.-. पीटी शूज़। बहुत जल्दी मैले होते थे।


Third party image reference
9.-. निब वाली पेन और चैलपार्क। बड़ों द्वारा ये बताना कि राइटिंग अच्छी तो इस पैन से ही आएगी।


Third party image reference
10.-. क्लास में बैठे बैठे ढक्कन चबा जाना।


Third party image reference
11.-. दाँत टूटे तो रात को तकिए के नीचे रख कर सो जाओ फिर अगली सुबह ही फेंको।


Third party image reference
12.-. ये स्लेटी तो बहुत खायी हुई है। आज भी मिले तो मौक़ा नहीं छोड़ता।


Third party image reference
13.-. पॉकेटमनी में नए और इस से पुराने सिक्कों को घर में देखकर ख़ुश होना।


Third party image reference
14.-. क्लास में बैठे बैठे सिक्के की पेंसिल से काग़ज़ पर छाप बनाना।


Third party image reference
15.-. ये रबर मिटाते वक़्त काला कर देता था कई बार। फिर इसके कोने पोंछने पड़ते थे।बोला तो ये भी जाता था की नीला वाला हिस्सा इंक को भी मिटा देता है!


Third party image reference
16.-. एक्स्ट्रा पेंसिल को दोनों तरफ़ से छील कर रखना इमर्जन्सी के लिए। जिसकी एक नुक तो अक्सर टूट ही जाती थी क्लास की डेस्क से लुढ़क कर या बैग में पड़े पड़े।


Third party image reference
17.-. बुढ़िया के बाल वाला! होने को आज भी है पर साइकल पर गली गली घूमने वाले अब कहाँ।


Third party image reference
18.-. अपनी उँगलियों को इन में फँसा कर खाना भी बड़ा रोमांचक हुआ करता था।


Third party image reference
19.-. रबर को अपने सिर के बालों पर ख़ूब रगड़ कर किताब के पन्ने के ऊपर एकदम रख दिया जाता था, फिर जो छाप आती थी उस से ऐसा महसूस होता था मानो कोई बहुत बड़ा अविष्कार किया है।


Third party image reference
20 .-. वैज्ञानिक सोच का एक नमूना! आटा गूँधने के थाल में पानी भरकर इसको चलाया जाता और मम्मी झुँझलाती थी कि बस भी करो।


Third party image reference
यादों के सफ़र की ये गाड़ी अब लौटेगी यथास्थान। आप सब के साथ सफ़र ख़ूबसूरत रहा।

शुक्रिया :)

आज भी आती है वो बचपन वाली बारिश...

तुम भूल गए हो शायद अब नाव बनानी कागज़ की...!!
Tags: Look chup,

More Related Blogs

Back To Top