कैटरीना कैफ जीवन परिचय

कैटरीना के पिता कश्मीरी थे और माता ब्रिटिश थी, इस प्रकार कैटरीना आधी भारतीय और आधी ब्रिटिश हैं।

Posted 9 months ago in Entertainment.

User Image
Poonam Namdev
28 Friends
2 Views
39 Unique Visitors
अपने बचपन के दिनों में कैटरीना कैफ ने बहुत से महाद्वीपों की यात्रा की जैसे :-  कैटरीना के जन्म के बाद सपरिवार हांग कांग से चीन की यात्रा की, फिर जापान, फ़्रांस, स्विट्ज़रलैंड,पोलैण्ड, बेल्जियम इत्यादि की यात्रा। इसके बाद उनका परिवार हवाई चला गया और अंत में जब वह 14 साल की थीं, तब वह अपनी मां के घर इंग्लैंड चली गई जहां भारत आने से पहले वह तीन साल तक अपनी मां के घर रही थीं।वह कभी भी किसी भी स्कूल में नहीं गई क्योंकि उनके पिता का स्थानंतरण होने के कारण, उन्होंने अधिकांश पढ़ाई ट्यूटर के द्वारा अपने घर पर ही की।14 साल की उम्र में कैटरीना ने हवाई में आयोजित सौंदर्य प्रतियोगिता को जीता। जिसके बाद उन्हें मॉडलिंग की दुनिया में काम मिलना प्रारम्भ हो गया और जिसके चलते वह लंदन में एक पेशेवर मॉडल बन गईं।उनकी पहली बॉलीवुड फिल्म “बूम” की प्रोड्यूसर आयशा श्रॉफ (जैकी श्रॉफ की पत्नी) ने उनका नाम कैटरीना तुर्केट से “कैटरीना कैफ” रख दिया। क्योंकि उनके नाम का उच्चारण काफी मुश्किल था।बॉलीवुड के शुरुआती दौर में कैटरीना को काफी संघर्ष करना पड़ा, लेकिन वर्ष 2007 में अक्षय कुमार की फिल्म नमस्ते लन्दन की अपार सफलता ने फिल्मजगत में कैटरीना को बहुत लोकप्रिय बना दिया।फिल्म वेलकम (2007) में कैटरीना ने जो चांदी की पोशाक पहनी थी, उसकी कीमत 2 लाख भारतीय रुपए (4,814 डॉलर) थी, जिसे इतालवी फैशन डिजाइनर एमिलियो पच्ची ने उपहार स्वरूप भेंट किया था।उनके पूर्व प्रेमी रणबीर कपूर ने फिल्म अजब प्रेम की गज़ब कहानी (2009) में कैटरीना के साथ सफलतापूर्वक एक दृश्य किया, जिसमें उन्हें 200 फीट की ऊंचाई पर एक सीढ़ी पर चढ़ना पड़ा था, इसे देखकर रणबीर ने कैटरीना का एक उपनाम साम्बो (रेम्बो की बहन साम्बो) रख दिया।वर्ष 2010 में उन्होंने एआर रहमान के साथ काम किया और जिसके चलते रहमान ने “राइमस्कुल” नामक एक संगीत एलबम को जारी किया। और उस एलबम से एकत्रित धन को मदुरै में एक स्कूल के निर्माण कार्य में दान कर अपना अहम योगदान दिया।वह अंधविश्वासी भी हैं, और अपनी फिल्म रिलीज होने से पहले वह अक्सर अजमेर शरीफ दरगाह, मुंबई स्थित सिद्धिविनायक मंदिर और माउंट मैरी चर्च जैसे धार्मिक स्थलों पर जाती रहती हैं।वह सक्रिय रूप से अपनी मां के चैरिटेबल ट्रस्ट रिलीफ प्रोजेक्ट्स इंडिया से जुड़ी हुई हैं। जो बेघर शिशुओं की सहायता करती है और मादा शिशु हत्या के खिलाफ एक मुहिम भी चलाती हैं।

More Related Blogs

Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 6 Views
Article Picture
Poonam Namdev 10 months ago 2 Views
Article Picture
Poonam Namdev 10 months ago 3 Views
Article Picture
Poonam Namdev 10 months ago 1 Views
Article Picture
Poonam Namdev 10 months ago 5 Views
Article Picture
Poonam Namdev 10 months ago 3 Views
Article Picture
Poonam Namdev 10 months ago 3 Views
Article Picture
Poonam Namdev 10 months ago 2 Views
Article Picture
Poonam Namdev 10 months ago 3 Views
Back To Top