गूगल (Google)

गूगल एक अमेरीकी बहुराष्ट्रीय सार्वजनिक कम्पनी है, जिसने इंटरनेट सर्च, क्लाउड कम्प्यूटिंग और विज्ञापन तंत्र म

Posted 8 months ago in Education.

User Image
Shaikh Aejaz
318 Friends
5 Views
47 Unique Visitors
यह इंटरनेट पर आधारित कई सेवाएँ और उत्पाद[2] बनाता तथा विकसित करता है और यह मुनाफा मुख्यतया अपने विज्ञापन कार्यक्रम ऐडवर्ड्स (AdWords) से कमाती है।[3][4] यह कम्पनी स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से पी॰एच॰डी॰ के दो छात्र लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन द्वारा स्थापित की गयी थी। इन्हें प्रायः "गूगल गाइस"[5][6][7] के नाम से सम्बोधित किया जाता है। सितम्बर 4, 1998 को इसे एक निजि-आयोजित कम्पनी में निगमित किया गया। इसका पहला सार्वजनिक कार्य/सेवा 19 अगस्त 2004 को प्रारम्भ हुआ। इसी दिन लैरी पेज, सर्गेई ब्रिन और एरिक स्ख्मिड्ट ने गूगल में अगले बीस वर्षों (2024) तक एक साथ कार्य करने की रजामंदी की। कम्पनी का शुरूआत से ही "विश्व में ज्ञान को व्यवस्थित तथा सर्वत्र उपलब्ध और लाभप्रद करना" कथित मिशन रहा है। कम्पनी का गैर-कार्यालयीन नारा, जोकि गूगल इन्जीनियर पौल बुखीट ने निकाला था— "डोन्ट बी इवल (बुरा न बनें)"। सन् 2006 से कम्पनी का मुख्यालय माउंटेन व्यू, कैलिफोर्निया में है। गूगल विश्वभर में फैले अपने डाटा-केन्द्रों से दस लाख से ज़्यादा सर्वर चलाता है और दस अरब से ज़्यादा खोज-अनुरोध तथा चौबीस पेटाबाईट उपभोक्ता-सम्बन्धी जानकारी (डाटा) संसाधित करता है। गूगल की सन्युक्ति के पश्चात् इसका विकास काफ़ी तेज़ी से हुआ है, जिसके कारण कम्पनी की मूलभूत सेवा वेब-सर्च-इंजन के अलावा, गूगल ने कई नये उत्पादों का उत्पादन, अधिग्रहण और भागीदारी की है। कम्पनी ऑनलाइन उत्पादक सौफ़्ट्वेयर, जैसे कि जीमेल ईमेल सेवा और सामाजिक नेटवर्क साधन, ऑर्कुट और हाल ही का, गूगल बज़ प्रदान करती है। गूगल डेस्कटॉप कम्प्युटर के उत्पादक सोफ़्ट्वेयर का भी उत्पादन करती है, जैसे— वेब ब्राउज़र गूगल क्रोम, फोटो व्यवस्थापन और सम्पादन सोफ़्ट्वेयर पिकासा और शीघ्र संदेशन ऍप्लिकेशन गूगल टॉक। विशेषतः गूगल, नेक्सस वन तथा मोटोरोला ऍन्ड्रोइड जैसे फोनों में डाले जाने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम ऍन्ड्रोइड, साथ-ही-साथ गूगल क्रोम ओएस, जो फिलहाल भारी विकास के अन्तर्गत है, पर सीआर-48 के मुख्य ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में प्रसिद्ध है, के विकास में अग्रणी है। एलेक्सा google.com को इंटरनेट की सबसे ज़्यादा दर्शित वेबसाइट बताती है। इसके अलावा गूगल की अन्य वेबसाइटें (google.co.in, google.co.uk, आदि) शीर्ष की सौ वेबासाइटों में आती हैं। यही स्थिती गूगल की साइट यूट्यूब और ब्लॉगर की है। ब्रैंडज़ी के अनुसार गूगल विश्व का सबसे ताकतवर (नामी) ब्राण्ड है। बाज़ार में गूगल की सेवाओं का प्रमुख होने के कारण, गूगल की आलोचना कई समस्याओं, जिनमें व्यक्तिगतता, कॉपीराइट और सेंसरशिप शामिल हैं, से हुई है। गूगल की शुरुआत 1996 में एक रिसर्च परियोजना के दौरान लैरी पेज़ तथा सर्गेई ब्रिन ने की। उस वक्त लैरी और सर्गी स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय, कैलिफ़ोर्निया में पी॰एच॰डी॰ के छात्र थे। उस समय, पारम्परिक सर्च इंजन सुझाव (रिजल्ट) की वरीयता वेब-पेज पर सर्च-टर्म की गणना से तय करते थे, जब कि लैरी और सर्गेई के अनुसार एक अच्छा सर्च सिस्टम वह होगा जो वेबपेजों के ताल्लुक का विश्लेषण करे। इस नये तकनीक को उन्होंने पेजरैंक (PageRank) का नाम दिया। इस तकनीक में किसी वेबसाइट की प्रासंगिकता/योग्यता का अनुमान, वेबपेजों की गिनती, तथा उन पेजों की प्रतिष्ठा, जो आरम्भिक वेबसाइट को लिंक करते हैं के आधार पर लगाया जाता है। 1996 में आईडीडी इन्फ़ोर्मेशन सर्विसेस के रॉबिन ली ने “रैंकडेक्स” नामक एक छोटा सर्च इंजन बनाया था, जो इसी तकनीक पर काम कर रहा था। रैंकडेक्स की तकनीक को ली ने पेटेंट करवा लिया और बाद में इसी तकनीक पर उन्होंने बायडु नामक कम्पनी की चीन में स्थापना की। पेज और ब्रिन ने शुरुआत में अपने सर्च इंजन का नाम “बैकरब” रखा था, क्योंकि यह सर्च इंजन पिछली कड़ियाँ (backlinks) के आधार पर किसी साइट की वरीयता तय करता था। अंततः, पेज और ब्रिन ने अपने सर्च इंजन का नाम गूगल (Google) रखा। गूगल अंग्रेज़ी के शब्द “गूगोल” की गलत वर्तनी है, जिसका मतलब है− वह नंबर जिसमें एक के बाद सौ शून्य हों। naamनाम “gooगूगल” इस बात को दर्शाता है कि कम्पनी का सर्च इंजन लोगों के लिए जानकारी बड़ी मात्रा में उपलब्ध करने के लिए कार्यरत है। अपने शुरुआती दिनों में गूगल स्टैनफौर्ड विश्वविद्यालय की वेबसाइट के अधीन google.stanford.edu नामक डोमेन से चला। गूगल के लिए उसका डोमेन नाम 15 सितंबर 1997 को पंजीकृत हुआ। सितम्बर 4, 1998 को इसे एक निजी-आयोजित कम्पनी में निगमित किया गया। कम्पनी का पहला कार्यालय सुसान वोज्सिकि (उनकी दोस्त) के गराज मेनलो पार्क, कैलिफोर्निया में स्थापित हुआ। क्रेग सिल्वरस्टीन व एक साथी पीएचडी छात्र कम्पनी के पहले कर्मचारी बनें। वित्तीयन और आरम्भिक सार्वजनिक सेवाएँ संपादित करें गूगल के निगमन से पहले ही एंडी बेख़्टोल्शीम, सन माइक्रोसिस्टम्स के सहसंस्थापक, ने अगस्त 1998 में गूगल को एक लाख़ डॉलर की वित्तीय सहायता दी। 1999 के शुरुआत में जब वे स्नातक के छात्र थे, ब्रिन और पेज को लगा कि वे सर्च इंजन पर काफ़ी समय व्यतीत कर रहे हैं और पढ़ाई पर ध्यान नहीं दे रहे हैं, इस कारण उन्होंने इसे बेचने का निर्णय लिया और एक्साइट कम्पनी के सीईओ जॉर्ज बेल को दस लाख़ में बेचने का प्रस्ताव रखा, उन्होंने यह प्रस्ताव ठुकरा दिया और बाद में अपने इस फैसले के लिए विनोद खोसला की आलोचना की। जबकि खोसला ने 750,000 डॉलर में कम्पनी खरीदने की ब्रिन और पेज से बात भी कर ली थी। तब खोसला एक्साइट के उद्यम पूँजीपति थे। 7 जून 1999 को कम्पनी में 250 लाख़ डॉलर लगाने की घोषणा की गयी, यह घोषणा प्रमुख निवेशकों के सहित उद्यम पूंजी कम्पनी क्लीनर पर्किन्स कौफ़ील्ड एन्ड बायर्स तथा सीकोइया कैपीटल के तरफ़ से की गयी। गूगल की आरम्भिक सार्वजनिक सेवाएँ (IPO) पाँच साल बाद 19 अगस्त 2004 से चालु हुई। कम्पनी ने अपने 1,96,05,052 शेयरों का दाम 85 डॉलर प्रति शेयर रखा। शेयरों को बेचने के लिए एक अनूठे ऑनलाइन निलामी फ़ॉर्मेट का इस्तेमाल किया गया। इसके लिए मॉर्गन स्टेनली और क्रेडिट सुइस, जो कि इस निलामी के बीमाकर्ता थे, द्वारा बनाये गये एक प्रणाली का उपयोग किया गया। 1.67 अरब डॉलर की बिक्री ने गूगल को बाज़ार में 23 अरब डॉलर से अधिक की राशि से बाजार पूंजीकरण किया। 2,710 लाख शेयरों का विशाल बहुमत गूगल के नियंत्रण में रहा और काफी गूगल कर्मचारी शीघ्र ही कागज़ी लखपति बन गये। याहू! (Yahoo!), गूगल का प्रतिद्वंद्वी, को भी बड़ा फ़ायदा हुआ, क्योंकि उस समय याहू! के पास गूगल के 84 लाख शेयरों का स्वामित्व था। कुछ लोगों को लगा कि गूगल का यह आईपीओ निस्संदेह कम्पनी संस्कृति में हेर-फेर करेगा। इसके कई कारण थे, जैसे कि शेयरधारकों का कम्पनी पर उसके कर्मचारियों को होने वाले लाभ में कटौती के लिए दबाव, क्योंकि यह एक तथ्य था कि कम्पनी को हुए बड़े फायदे से कई कर्मचारी शीघ्र कागज़ी लखपति बन गये थे। इसकी जवाबदेही में सह-संस्थापक सर्गेई ब्रिन और लैरी पेज ने एक रिपोर्ट में अपने सम्भावित निवेशकों को यह आश्वासन दिया कि कम्पनी के आईपीओ से कम्पनी के कार्य करने की प्रणाली में कोई अनचाहा बदलाव नहीं होगा। वर्ष 2005 में यद्यपि, द न्यूयॉर्क टाइम्स में छपे लेखों तथा अन्य सूत्रों से ऐसा लगने लगा कि गूगल अपने "एंटी-कॉर्पोरेट, नो इवल" सिद्धांत से भटक रहा है। कम्पनी ने इस विशिष्ट कार्य-प्रणाली को बनाये रखने के लिए एक मुख्य संस्कृति अधिकारी का पद नियुक्त किया। इस पद का अधिकारी मानव
Tags: Google,

More Related Blogs

Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 1 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 2 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 4 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 2 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 1 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 1 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 4 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 2 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 1 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 1 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 1 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 6 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 5 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 4 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 3 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 8 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 8 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 7 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 10 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 11 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 10 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 6 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 2 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 3 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 4 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 6 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 4 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 3 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 4 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 2 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 8 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 9 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 11 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 8 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 16 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 20 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 6 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 6 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 9 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 8 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 10 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 8 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 31 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 4 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 3 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 3 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 3 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 6 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 5 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 6 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 4 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 8 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 3 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 5 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 7 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 6 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 34 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 26 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 8 months ago 28 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 9 months ago 204 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 9 months ago 53 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 9 months ago 22 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 9 months ago 8 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 9 months ago 4 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 9 months ago 4 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 9 months ago 1 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 9 months ago 2 Views
Article Picture
Shaikh Aejaz 9 months ago 7 Views
Back To Top