जयशंकर प्रसाद

जयशंकर प्रसाद (30 जनवरी 1890 - 15 नवम्बर 1937)[1][2], हिन्दी कवि, नाटककार, कहानीकार, उपन्यासकार तथा निबन्धकार थे। वे हिन्दी क

Posted 11 months ago in Other.

User Image
chhaya ji
1136 Friends
1 Views
54 Unique Visitors
तरह से छायावाद की स्थापना की जिसके द्वारा खड़ी बोलीके काव्य में न केवल कमनीय माधुर्य की रससिद्ध धारा प्रवाहित हुई, बल्कि जीवन के सूक्ष्म एवं व्यापक आयामों के चित्रण की शक्ति भी संचित हुई और कामायनी तक पहुँचकर वह काव्य प्रेरक शक्तिकाव्य के रूप में भी प्रतिष्ठित हो गया। बाद के प्रगतिशील एवं नयी कविता दोनों धाराओं के प्रमुख आलोचकों ने उसकी इस शक्तिमत्ता को स्वीकृति दी। इसका एक अतिरिक्त प्रभाव यह भी हुआ कि खड़ीबोली हिन्दी काव्य की निर्विवाद सिद्ध भाषा बन गयी।

More Related Blogs

Article Picture
chhaya ji 6 months ago 1 Views
Article Picture
chhaya ji 10 months ago 1 Views
Article Picture
chhaya ji 10 months ago 1 Views
Article Picture
chhaya ji 10 months ago 1 Views
Article Picture
chhaya ji 10 months ago 1 Views
Article Picture
chhaya ji 11 months ago 1 Views
Article Picture
chhaya ji 11 months ago 1 Views
Back To Top