देश भर में गंगा सप्तमी की धूम, काशी के घाट पर कुछ इस तरह की गई पूजा, देखें 

हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में शामिल गंगा सप्तमी की देशभर में धूम है। जगह- जगह श्रद्धालु मां गंगा की अराधना कर रहे हैं। गंगा

Posted 7 months ago in Other.

User Image
deepika mandloi
937 Friends
2 Views
34 Unique Visitors
घाट पर मनाया गया गंगा सप्तमी

  

नई दिल्ली: हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में शामिल गंगा सप्तमी की देशभर में धूम है। जगह- जगह श्रद्धालु मां गंगा की अराधना कर रहे हैं। गंगा सप्तमी वैशाख मास के शुक्ल पक्ष में हर वर्ष मनाई जाती है। माना जाता है कि इस दिन गंगा में डुबकी लगाने से बहुत पुण्य मिलता है। गंगा सप्तमी की धूम उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले में भी देखने को मिली। 

भगवान भोलेनाथ की नगरी के नाम से मशहूर काशी के घाटों पर भी गंगा सप्तमी की धूम रही। इस दौरान श्रद्धालुओं का जोश और उत्साह देखने लायक था। सुबह से ही काशी के घाटों पर लोगों का जमावड़ा लगा रहा। वैदिक मंत्रोचार के बीच मां गंगा की पूजा की गई और विशेष आयोजन किया गया।

गंगा मात्र एक नदी नहीं है बल्कि आस्था की देवी हैं किसानों के लिये प्राण दायिनी हैं। यह सवाल तो आज भी रहस्य है कि उद्योग कारखानों की रसायनों और गंदगी को अपने में समा लेने के बाद भी इसकी पवित्रता बरकरार कैसे हैं? जब किसी रहस्य का पता न चले तो उसे चमात्कार कहा जा सकता है। गंगा का यही रहस्य इस नदी को देवी गंगा बनाता है। इसकी पवित्रता और शीतलता के ही बदौलत लोगों की इसमें गहरी आस्था भी है। इसलिए मनाई जाती है गंगा सप्तमी
हिंदू मान्यताओं के अनुसार परमपिता ब्रह्मा के कमंडल से पहली बार गंगा अवतरित हुई थी और ऋषि भागीरथ की कठोर तपस्या से खुश होकर धरती पर आई थी। पौराणिक कथाओं के अनुसारा मां गंगा का जन्म भगवान विष्णु के पैर में पैदा हुई पसीने की बूंदों से हुआ था। जबकि कुछ अन्य हिंदू मान्यताओं की माने तो गंगा की उत्पत्ति ब्रह्मा जी के कमडंल से हुई थी। 

यह भी माना जाता है कि ऋषि भागीरथ ने राजा सागर के 60 हजार बेटों के उद्धार के लिए और उन्हें कपिल मुनि के श्राप से मुक्ति दिलाने के लिए धरती के लोगों की प्यास बुझाने के लिए कई सालों तक गंगा की तपस्या की थी। इस तपस्या से खुख होकर मां गंगा पृथ्वी पर आई। लेकिन धरती गंगा के आने की बात सुनकर भय महसूस करने लगी।

More Related Blogs

Article Picture
deepika mandloi 1 year ago 3 Views
Back To Top