पद्मावत' एक भारतीय ऐतिहासिक फ़िल्म है

पद्मावत' एक भारतीय ऐतिहासिक फ़िल्म है जिसका निर्देशन संजय लीला भंसाली ने किया है और निर्माण भंसाली प्रोडक्शन्स और वायकॉम 18 मोशन पिक्चर्स ने किया है। फ़िल्म में मुख्य भूमिका में दीपिका पादुकोण, शाहिद कपूर और रणवीर सिंह हैं।[2] पहले यह फ़िल्म 1 दिसम्बर 2017 को सिनेमाघरों में प्रदर्शित होने वाली थी

Posted 3 months ago in Movies & Animation.

User Image
Ashish kashyap
15 Friends
1 Views
1 Unique Visitors
पद्मावत' एक भारतीय ऐतिहासिक फ़िल्म है जिसका निर्देशन संजय लीला भंसाली ने किया है और निर्माण भंसाली प्रोडक्शन्स और वायकॉम 18 मोशन पिक्चर्स ने किया है। फ़िल्म में मुख्य भूमिका में दीपिका पादुकोण, शाहिद कपूर और रणवीर सिंह हैं।[2] पहले यह फ़िल्म 1 दिसम्बर 2017 को सिनेमाघरों में प्रदर्शित होने वाली थी;[3]परंतु फिर कुछ लोगों के विरोध और सुप्रीम कोर्ट में चली कानूनी कार्यवाही के बाद यह २५ जनवरी २०१८ को रिलीज हुई।[4]

इस फ़िल्म में चित्तौड़ की प्रसिद्द राजपूत रानी पद्मिनी का वर्णन किया गया है जो रावल रतन सिंह की पत्नी थीं। यह फ़िल्म दिल्ली सल्तनत के तुर्की शासक अलाउद्दीन खिलजी का १३०३ ई. में चित्तौड़गढ़ के दुर्ग पर आक्रमण को भी दर्शाती है। पद्मावत के अनुसार, चित्तौड़ पर अलाउद्दीन के आक्रमण का कारण रानी पद्मिनी के अनुपन सौन्दर्य के प्रति उसका आकर्षण था। अन्ततः 28 जनवरी 1303 ई. को सुल्तान चित्तौड़ के क़िले पर अधिकार करने में सफल हुआ। राणा रतन सिंह युद्ध में शहीद हुये और उनकी पत्नी रानी पद्मिनी ने अन्य स्त्रियों के साथ आत्म-सम्मान और गौरव को मृत्यु से ऊपर रखते हुए जौहर कर लिया।


१३वीं सदी में अफगानिस्तान में, दिल्ली के सिंहासन को जब्त करने के लिए खिलजी वंश के जलालुद्दीन खिलजी (रजा मुराद) लगातार चालें चलता रहता है। उसका भतीजा अलाउद्दीन खिलजी (रणवीर सिंह) एक दिन उसे उपहार स्वरुप एक शुतुरमुर्ग देता है, और बदले में उसकी बेटी, मेहरुनिसा (अदिति राव हैदरी), से शादी करने का आग्रह करता है, जिस पर जलालुद्दीन राज़ी हो जाता है। अलाउद्दीन की शादी की रात ही वह दूसरी महिला से व्यभिचार करता है और रंगे हाथों पकड़े जाने पर जलालुद्दीन के एक दरबारी को मार देता है। इस बीच, राजपूत शासक महाराज रतन सिंह (शाहिद कपूर) अपनी पत्नी नागमती के लिए दुर्लभ मोती हासिल करने के लिए सिंहल जाते हैं। इस यात्रा के दौरान सिंहल राजकुमारी पद्मावती (दीपिका पादुकोण) अनजाने में एक हिरण का शिकार करते समय रतन सिंह को घायल कर देती है। दोनों एक दूसरे के प्रेम में पड़ जाते हैं, और उनका विवाह हो जाता है।

जलालुद्दीन दिल्ली के सिंहासन पर कब्ज़ा कर लेता है, और अलाउद्दीन को कारा सूबे का अधिकारी बना देता है। दिल्ली में मंगोल आक्रमण के समय अलाउद्दीन उनसे लड़ने जाता है, परन्तु साथ साथ वह देवगिरी पर भी आक्रमण कर देता है। राज्य पर कब्ज़ा कर लेने की अलाउद्दीन की महत्वाकांक्षाओं का अपता जब जलालुद्दीन को चलता है, तो वह उससे मिलने कारा के लिए निकल जाता है। अलाउद्दीन देवगिरी की राजकुमारी का अपहरण कर लेता है, और उसे अपने हरम में रख लेता है। जलालुद्दीन कारा पहुंचकर अलाउद्दीन को मलिक कफूर नामक एक गुलाम उपहार स्वरुप देता है, परन्तु अलाउद्दीन जलालुद्दीन और उसके पहरेदारों की हत्या कर खुद को दिल्ली का सुल्तान घोषित कर देता है।

पद्मावती रतन सिंह के साथ मेवाड़ आ जाती हैं, लेकिन रतन की पहली पत्नी पद्मावती से ईर्ष्या करने लगती है। रतन और पद्मावती जब अंतरंग हो रहे होते हैं तो उनके शाही पुजारी, राघव चेतन को उन्हें देखते हुए पकड़ा जाता है, और इसके फलस्वरूप उसे राज्य से निकाल दिया जाता है। चेतन आवेश में आकर दिल्ली चला जाता है, और पद्मावती की सुंदरता के बारे में खिलजी को सूचित करता है। अलाउद्दीन राजपूतों को दिल्ली आमंत्रित करता है, और उनकी अस्वीकृति के बारे में जानने के बाद चित्तौड़ पर हमला करने का आदेश दे देता है। चित्तौड़ पर कब्जा करने के कई असफल प्रयासों के बाद, खिलजी शांति का आह्वान करता है और मित्र के तौर पर चित्तौड़ में प्रवेश करता है, जहां उसकी मुलाकात रतन से होती है। वह पद्मावती को देखने की बात कहता है, जिसे सुनकर वहां स्थित राजपूत क्रोधवश उसे धमकाकर भेज देते हैं। हालांकि पद्मावती के आग्रह पर रतन सिंह उसे पद्मावती को क्षण भर के लिए देखने की अनुमति दे देता है।

अलाउद्दीन रतन सिंह को अपने शिविर में अकेले बुलाकर कैदी बना लेता है, और रिहा करने के बदले पद्मावती को दिल्ली भेजने की मांग करता है। रानी नागमती द्वारा जोर देने पर, पद्मावती खिलजी से मिलने के लिए दिल्ली जाने को सहमत हो जाती है। वह अपने साथ महिलाओं के भेष में ८०० राजपूत सैनिकों को लेकर दिल्ली जाने का निर्णय करती है। इस बीच अलाउद्दीन का भतीजा उसकी हत्या करने का प्रयास करता है, जिसमें अलाउद्दीन घायल हो जाता है। सल्तनत की सीमाओं पर पहुंचकर, राजपूत सुबह नमाज के समय में खिलजी के सैनिकों पर घात करने की योजना बनाते हैं। पद्मावती मेहरुनिसा की सहायता से रतन को मुक्त करवाती है, और एक गुप्त सुरंग से निकल जाती है। अलाउद्दीन के सैनिक प्रार्थना छोड़ उनका पीछा करने लगते हैं, लेकिन महिलाओं के रूप में प्रच्छन्न राजपूत उन पर हमला कर देते हैं। इस आक्रमण में सभी राजपूतों की हत्या ही जाती है। रतन को सुरक्षित बचाकर लाने के कारण पद्मावती को चित्तौड़ में देवी के रूप में सम्मानित किया जाता है।

अलाउद्दीन राजपूतों की मदद करने के लिए मेहरुनिसा को कारावास में कैद कर देता है, और चित्तौड़ पर चढ़ाई करने के लिए दोबारा निकल पड़ता है। युद्धक्षेत्र में उसके और रतनसिह के बीच द्वंद्वयुद्ध होता है। अलाउद्दीन लगभग रतन द्वारा पराजित हो ही चुका होता है पर मलिक कफूर की अगुवाई में खिलजी की सेना रतन सिंह पर बाणवर्षा कर उसे मार देती है। खिलजी सेना राजपूतों को पराजित कर चित्तौड़ में प्रवेश करने में तो सफल हो जाती है, लेकिन तब तक पद्मावती अन्य राजपूत महिलाओं के साथ जौहर कर चुकी होती हैं।


फ़िल्म का निर्माण जुलाई २०१६ में शुरू हुआ। उसी महीने में पार्श्वगायिका श्रेया घोषाल ने ट्वीट किया कि वे फ़िल्म में भंसाली द्वारा संगीतबद्ध एक गीत गाएंगी। मीडिया में यह कयास लगाए जा रहे थे कि रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण, जिन्होंने भंसाली की फ़िल्में गोलियों की रासलीला रामलीला (२०१३) और बाजीराव मस्तानी (२०१५) में मुख्य किरदार निभाये थे, इस फ़िल्म में अल्लाउदीन खिलजी और रानी पद्मिनी की भूमिका निभाएंगे।

अक्टूबर २०१६ में यह घोषित हुआ कि भंसाली, वायकॉम 18 मोशन पिक्चर्स के साथ मिलकर फ़िल्म का निर्माण करेंगे जिसमें शाहिद कपूर, रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण मुख्य भूमिका निभाएंगे।

जनवरी २०१७ में जयपुर में फ़िल्म की शूटिंग के दौरान श्री राजपूत करणी सेना के कुछ सदस्यों ने फ़िल्म का विरोध किया और जयगढ़ दुर्ग में फ़िल्म के सेट पर तोड़फोड़ की। उन्होंने आरोप लगाया की फ़िल्म में ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ की गयी है। कुछ समय बाद फ़िल्म के निर्माताओं ने यह आश्वासन दिलाया की फ़िल्म में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है। [8] ६ मार्च २०१७ को इन सदस्यों ने फिर से चित्तौड़गढ़ किला का भंडाफोड़ किया और रानी पद्मिनी के महल में स्थापित दर्पण को तोड़ दिया। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधिकारियों के मुताबिक, इन दर्पणों को लगभग ४० साल पहले चित्तौड़गढ़ किले में रखा गया था।

१५ मार्च २०१७ को अज्ञात लोगों के एक समूह ने फिर से तोड़फोड़ की और कोल्हापुर में इस फ़िल्म के सेट पर आग लगा दी जिससे उत्पादन सेट, वेशभूषा और गहने जल गए। फ़िल्म का उत्पादन बजट १६० करोड़ से बढ़कर २०० करोड़ हो गया है, जो कि कई बर्बरता के कारण संभावित उत्पादन में हुई क्षति के कारण बढ़ गया है और अब यह सबसे महंगी बॉलीवुड फ़िल्म होने की उम्मीद की जा रही है।

More Related Blogs

Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 3 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 4 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 3 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Back To Top