फेसबुक का नया फीचर, दोस्तों के फेवर में करेगा बदलाव

दिग्गज कंपनी फेसबुक ने एक हालिया ब्लॉग पोस्ट के जरिए इस नए फीचर की जानकारी दी है. फिलहाल इसके लिए एल्गोरिदम तैयार की जा रही है.

Posted 5 months ago in Science and Technology.

User Image
Shubhashish Sharma
76 Friends
2 Views
1 Unique Visitors
दिग्गज कंपनी फेसबुक ने एक हालिया ब्लॉग पोस्ट के जरिए इस नए फीचर की जानकारी दी है. फिलहाल इसके लिए एल्गोरिदम तैयार की जा रही है.

फेसबुक दुनियाभर सब से ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है. यही नहीं लंबे समय से फेसबुक अपनी टॉप पोजीशन पर जगह बनाए हुए है. वजह है इसका समय-समय पर अपडेट होना. फेसबुक यूजर्स की सहूलियत के लिए नए-नए फीचर लाता रहता है. जल्द ही एक बार फिर फेसबुक अपने यूजर्स का ख्याल रखते हुए नए फीचर ला रहा है.

फेसबुक अपने 2 अरब 30 करोड़ यूजर्स के लिए फेसबुक अपने न्यूज फीड में फेरबदल कर रहा है. इस फेरबदल के तहत यूजर्स उन दोस्तों को देख पाएंगे, जिन्हें वह सबसे ज्यादा देखना चाहते हैं और उन लिंक को देख पाएंगे जो प्लेटफॉर्म में सबसे ज्यादा उपयुक्त हैं.


फेसबुक ने उन पोस्टों के बारे में और अधिक रिफरेंस पाने के लिए सर्वे किया, जिन्हें लोग 'देखना चाहते हैं' और वे उन्हें 'किसके माध्यम से देखना चाहते हैं.'

सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी ने गुरुवार को देर रात एक ब्लॉग पोस्ट में कहा, "हम अपने द्वारा किए गए सर्वे के आधार पर दो रैंकिंग अपडेट की घोषणा कर रहे हैं: एक उन दोस्तों को प्राथमिकता देता है जिन्हें कोई व्यक्ति सबसे अधिक सुनना चाहता है और दूसरा उन प्राथमिकताओं को प्राथमिकता देता है जिन्हें कोई व्यक्ति सबसे सार्थक समझ सकता है."

उदाहरण के लिए यदि किसी को एक ही फोटो में टैग किया जा रहा है, वह एक ही पोस्ट पर लगातार रिएक्शन और कमेन्ट कर रहा है और एक ही तरह की जगहों पर चेक-इन कर रहा है ऐसे में फेसबुक पैटर्न को देखेगा.

फेसबुक इन सभी बातों को फिर अपने एल्गोरिदम को सूचित करने के लिए इन पैटर्नो का उपयोग करेगा.

Facebook लाइव स्‍ट्रीमिंग पर सख्‍त, ऐसे यूजर्स नहीं इस्‍तेमाल कर पाएंगे यह फीचर

Facebook ने ऐलान किया है कि वह लाइव स्‍ट्रीमिंग फीचर के इस्‍तेमाल से कुछ यूजर्स को रोकेगी.

फेसबुक ने बर्बर और हिंसक वीडियोज प्रसारित होने से रोकने के लिए नई गाइडलाइंस बनाई हैं. बुधवार को सान फ्रांसिस्‍को में कंपनी ने इसका ऐलान किया. Facebook के एक शीर्ष अधिकारी गॉय रोजेन ने कहा, "जिन लोगों ने कुछ नियम तोड़े होंगे जिनमें 'खतरनाक संस्‍थाओं और व्‍यक्तियों के खिलाफ' बने नियम भी हैं, उन्‍हें लाइव स्‍ट्रीमिंग फीचर का इस्‍तेमाल करने नहीं दिया जाएगा." एक बयान में कहा गया है, "न्‍यूजीलैंड में हालिया भयावह आतंकी हमलों के बाद, हम इस बात की समीक्षा कर रहे हैं कि अपनी सेवाओं को नुकसान या नफरत पहुंचाने के लिए इस्‍तेमाल होने से कैसे रोक सकें."

Facebook Live के लिए 'वन स्‍ट्राइक' पॉलिसी होगी, यानी एक बार भी नियम तोड़ने पर यूजर दोबारा इस फीचर का इस्‍तेमाल नहीं कर सकेगा.

जो नियम बनाए गए हैं, उसके मुताबिक किसी आतंकी संगठन का बयान बिना किसी संदर्भ के साझा करने पर भी यूजर्स को बैन किया जा सकता है. अभी यह नियम अमेरिका पर ही लागू होंगे मगर Facebook ने कहा है कि आने वाले कुछ दिनों में अन्‍य देशों में भी ऐसे प्रतिबंध लगाने की उसकी योजना है. इसके अलावा ऐसे लोगों को फेसबुक पर विज्ञापन जारी करने से भी रोका जाएगा.

कंपनी ने कहा है कि ऐसे 'मीडिया मैनिपुलेशन' से निपटने के लिए तकनीक में नयापन लाने की जरूरत है. न्‍यूजीलैंड की मस्जिद में हमले के बाद कई यूजर्स Facebook के फिल्‍टर्स से बचने के लिए वीडियोज से छेड़छाड़ कर रहे थे. Facebook ने ऐलान किया है कि वह तस्‍वीरों और वीडियो के एनालिसिस की तकनीक में सुधार के लिए तीन अमेरिकी विश्‍वविद्यालयों से समझौता कर रही है. इसके लिए उसने 7.5 मिलियन डॉलर का बजट दिया है.

Facebook ने यह ऐलान ऐसे समय में किया है जब न्‍यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न पेरिस में दुनियाभर के नेताओं से 'ऑनलाइन कट्टरता' पर रोक लगाने के लिए अपील करने वाली है. कंपनी ने यह कदम इसलिए उठाया क्‍योंकि मार्च में न्‍यूजीलैंड की दो मस्जिदों में घुसकर एक श्‍वेत आतंकी ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई थीं. हमले में 51 लोग मारे गए थे.

More Related Blogs

Article Picture
Shubhashish Sharma 6 months ago 2 Views
Article Picture
Shubhashish Sharma 7 months ago 6 Views
Article Picture
Shubhashish Sharma 7 months ago 26 Views
Back To Top