बेटी की मौत के बाद इस पाक खिलाड़ी ने कभी नहीं खेला क्रिकेट

वनडे क्रिकेट में 12 साल तक सबसे बड़ा स्कोर रहने वाली पारी सईद अनवर ने बनाई थी. इस पाकिस्तानी बल्लेबाज ने 1997 में इंडिया के विरुद्ध चेन्नई में 194 रन की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की, जो उस समय वनडे की सबसे बड़ी पारी थी.

Posted 6 months ago in Other.

User Image
Ravi Pathariya
35 Friends
2 Views
10 Unique Visitors
वनडे क्रिकेट में 12 साल तक सबसे बड़ा स्कोर रहने वाली पारी सईद अनवर ने बनाई थी. इस पाकिस्तानी बल्लेबाज ने 1997 में इंडिया के विरुद्ध चेन्नई में 194 रन की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की, जो उस समय वनडे की सबसे बड़ी पारी थी.


Third party image reference
इस बल्लेबाज ने 2009 में जिंबाब्वे के विरुद्ध नाबाद 194 रनों की पारी खेलकर अपने आंकड़े को दोबारा छुआ, लेकिन इसके 3 साल बाद इंडिया के सचिन तेंदुलकर ने नाबाद 200 रनों की यादगार पारी खेलकर रिकॉर्ड बुक में अपना नाम सबसे ऊपर बना लिया. 2001 में इस पाकिस्तानी खिलाड़ी ने अपना आखिरी टेस्ट मुकाबला खेला. इस टेस्ट मैच में शतक लगाने के बाद इस बल्लेबाज ने दोबारा टेस्ट क्रिकेट नहीं खेला.

2001 में पाकिस्तान ने एशेज टेस्ट चैंपियनशिप के बीच में तीसरे दिन बांग्लादेश के विरुद्ध 264 रनों से बड़ी जीत दर्ज की. उस समय टेस्ट में यह सबसे बड़ी जीत है.


Third party image reference
इस टेस्ट मुकाबले में पाकिस्तान के पांच बल्लेबाजों ने शतक लगाए थे. इस लिस्ट में सईद अनवर भी शामिल रहे. इस खिलाड़ी ने उस मुकाबले में 101 रन जोड़े थे. यह उनका 11वां और आखिरी शतक माना जाता है.


29 अगस्त को मुल्तान टेस्ट के पहले दिन उनकी 3.5 साल की बेटी बिस्माह की बीमारी की वजह से मौत हो गई. इसके बाद सईद लाहौर लौट आए और फिर कभी टेस्ट मैच नहीं खेला.


Third party image reference
लेकिन इसके बाद सईद अनवर ने वनडे में जगह बनाई रखी. 2003 वर्ल्ड कप में इस बल्लेबाज ने इंडिया के विरूद्ध खतरनाक शतक जड़ा, लेकिन वह पाकिस्तान को मुकाबला नहीं जीता पाए. बेटी की मौत के बाद यह खिलाड़ी धर्म की तरफ चला गया. इसके बाद, उन्होंने दाढ़ी बढ़ा ली और क्रिकेट को भी अलविदा कह दिया था.वनडे क्रिकेट में 12 साल तक सबसे बड़ा स्कोर रहने वाली पारी सईद अनवर ने बनाई थी. इस पाकिस्तानी बल्लेबाज ने 1997 में इंडिया के विरुद्ध चेन्नई में 194 रन की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की, जो उस समय वनडे की सबसे बड़ी पारी थी.


Third party image reference
इस बल्लेबाज ने 2009 में जिंबाब्वे के विरुद्ध नाबाद 194 रनों की पारी खेलकर अपने आंकड़े को दोबारा छुआ, लेकिन इसके 3 साल बाद इंडिया के सचिन तेंदुलकर ने नाबाद 200 रनों की यादगार पारी खेलकर रिकॉर्ड बुक में अपना नाम सबसे ऊपर बना लिया. 2001 में इस पाकिस्तानी खिलाड़ी ने अपना आखिरी टेस्ट मुकाबला खेला. इस टेस्ट मैच में शतक लगाने के बाद इस बल्लेबाज ने दोबारा टेस्ट क्रिकेट नहीं खेला.

2001 में पाकिस्तान ने एशेज टेस्ट चैंपियनशिप के बीच में तीसरे दिन बांग्लादेश के विरुद्ध 264 रनों से बड़ी जीत दर्ज की. उस समय टेस्ट में यह सबसे बड़ी जीत है.


Third party image reference
इस टेस्ट मुकाबले में पाकिस्तान के पांच बल्लेबाजों ने शतक लगाए थे. इस लिस्ट में सईद अनवर भी शामिल रहे. इस खिलाड़ी ने उस मुकाबले में 101 रन जोड़े थे. यह उनका 11वां और आखिरी शतक माना जाता है.


29 अगस्त को मुल्तान टेस्ट के पहले दिन उनकी 3.5 साल की बेटी बिस्माह की बीमारी की वजह से मौत हो गई. इसके बाद सईद लाहौर लौट आए और फिर कभी टेस्ट मैच नहीं खेला.


Third party image reference
लेकिन इसके बाद सईद अनवर ने वनडे में जगह बनाई रखी. 2003 वर्ल्ड कप में इस बल्लेबाज ने इंडिया के विरूद्ध खतरनाक शतक जड़ा, लेकिन वह पाकिस्तान को मुकाबला नहीं जीता पाए. बेटी की मौत के बाद यह खिलाड़ी धर्म की तरफ चला गया. इसके बाद, उन्होंने दाढ़ी बढ़ा ली और क्रिकेट को भी अलविदा कह दिया था.

More Related Blogs

Back To Top