भारतीय पायलट को रिहा करने के लिए पाकिस्तान ने रखी ये शर्त

गीदड़भभकी देने वाला पाकिस्तान अब शांति की भीख मांग रहा है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि हम भारत के साथ युद्ध नहीं चाहते हैं। इंडियन एयरफोर्स के जांबाज पायलट अभिनंदन को भी पाकिस्तान रिहा करने को तैयार हो गया है,

Posted 8 months ago in Other.

User Image
gourav tak
45 Friends
5 Views
39 Unique Visitors
नई दिल्ली। गीदड़भभकी देने वाला पाकिस्तान अब शांति की भीख मांग रहा है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि हम भारत के साथ युद्ध नहीं चाहते हैं। इंडियन एयरफोर्स के जांबाज पायलट अभिनंदन को भी पाकिस्तान रिहा करने को तैयार हो गया है, हालांकि उसने भारत के सामने एक शर्त रखी है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने पाकिस्तानी मीडिया को बयान देते हुए कहा कि हालात सामान्य हुए तो वो इंडियन पायलट अभिनंदन को रिहा करने के बारे में सोच सकते हैं। शाह महमूद कुरैशी का ये बयान तब आया, जब पाकिस्तान ने अपने एयर स्पेस में भारत के दो फाइटर जेट्स को मार गिराने का दावा किया।

बता दें कि पाकिस्तान ने 27 फरवरी को भारतीय सैन्यप्रतिष्ठानों पर हवाई हमले की नाकाम कोशिश की। पूरी तरह तैयार भारतीय वायुसेना ने न सिर्फ पाक के F-16 लड़ाकू विमानों को खदेड़ दिया, बल्कि एक F-16 को मार गिराया। हालांकि, इस दौरान देश का एक मिग-21 नष्ट हो गया। भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्तान ने अपने कब्जे में ले लिया हैं और उनके कुछ फोटोज व विडियो भी जारी किए।

विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान के विडियो को पाकिस्तान ने सोशल मीडिया पर सर्कुलेट किया, जो जिनीवा कन्वेंशन का खुला उल्लंघन है। भारत और पाकिस्तान के बीच भले ही युद्ध न छिड़ा हो, फिर भी अभिनंदन उन सभी अधिकारों के हकदार हैं, जो जिनीवा कन्वेंशन के तहत प्रिजनर ऑफ वॉर (PoW) यानी एक युद्धबंदी को मिलती हैं। PoW के साथ किस तरह का व्यवहार होना चाहिए, इसके बारे में 1949 का जिनीवा कन्वेंशन साफ-साफ कहता है कि यह उन सभी मामलों में लागू होता है, चाहे घोषित युद्ध का मामला हो या नहीं। इस तरह, पाकिस्तान को विंग कमांडर अभिनंदन को हर हाल में छोड़ना ही होगा, क्योंकि पाकिस्तान ने भी जिनीवा कन्वेंशन पर दस्तखत किए हैं।

More Related Blogs

Back To Top