भारत का एक शहर, जहां ना पैसा चलता है ना सरकार

भारत का एक शहर, जहां ना पैसा चलता है ना सरकार

ugta suraj
Author
+ फॉलो करें
भारत का एक शहर, यहां ना तो धर्म है, ना पैसा है और ना ही कोई सरकार। यहा आप सभी यह सोच रहे होंगे कि भारत में तो शायद ही कोई ऐसा शहर हो लेकिन यह सत्य है और सबसे बड़ी बात यह है कि यह शहर चेन्नई से केवल 150 किलोमीटर दूर है और

Posted 4 months ago in Other.

1 Views
3 Unique Visitors
भारत का एक शहर, जहां ना पैसा चलता है ना सरकार

ugta suraj
Author
+ फॉलो करें
भारत का एक शहर, यहां ना तो धर्म है, ना पैसा है और ना ही कोई सरकार। यहा आप सभी यह सोच रहे होंगे कि भारत में तो शायद ही कोई ऐसा शहर हो लेकिन यह सत्य है और सबसे बड़ी बात यह है कि यह शहर चेन्नई से केवल 150 किलोमीटर दूर है और इस जगह का नाम ऑरोविले है, आपको बता दें कि इस शहर की स्थापना 1968 में मीरा अल्फाजों ने की थी। यहा इस जगह को सिटी ऑफ डॉन भी कहा जाता है यानी भोर का शहर।


Third party image reference
भारत का एक शहर जहां ना पैसा चलता है ना सरकार

आप सभी को जानकर हैरानी होगी कि इस शहर को बसाने के पीछे सिर्फ एक ही मकसद था कि यहां पर लोग जात-पात, ऊंच-नीच और भेदभाव से दूर रहें और यहां कोई भी इंसान आकर रह सकता है लेकिन शर्त सिर्फ इतनी है कि उसे एक सेवक के तौर पर रहना होगा।


Third party image reference
यह एक तरीके की प्रयोगिक टाउनशिप है जो की Viluppuram District तमिलनाडु में स्थित है। तो अब चलिए जानते हैं कौन है मीरा अल्फाजों। यहा हम आपको बता दें कि मीरा अल्फाज़ों श्री अरविंदो स्प्रिचुअल रिट्रीट में 29 मार्च 1914 को पॉन्डिचेरी आई थी और प्रथम विश्वयुद्ध के बाद वह कुछ समय के लिए जापान चली गई थी। लेकिन 1920 में वह वापस से पोंडीचेरी आ गई थी और फिर 1924 में श्री अरविंदो स्प्रिचुअल संस्थान से जुड़ गयी और जनसेवा के कार्य करने लगी।


Third party image reference
1968 आते आते उन्होंने ऑरोविले की स्थापना कर दी जिसे यूनिवर्सल सिटी का नाम दिया गया जहा कोई भी कही से भी आकर रह सकता है और 2015 तक इस शहर का आकार बढ़ता चला गया और इसे कई जगह सराहा भी जा रहा है।


Third party image reference
इस शहर में करीबन 50 देशों के लोग रहते हैं और इस शहर की आबादी करीब 24000 लोगों की है यहां पर एक मंदिर भी है। हालांकि मंदिर में किसी धर्म से जुड़े भगवान की पूजा नहीं होती यहां सिर्फ लोग आते हैं और योगा करते हैं। यहा इस शहर की यूनेस्को ने भी प्रशंसा की है और आपको यह बात शायद नहीं पता होगी कि यह शहर भारतीय सरकार के द्वारा भी समर्थित है।


Third party image reference
हम आशा करते हैं यह जानकारी आपके लिए ज्ञानवर्धक सिद्ध हुई होगी क्योंकि हममें से शायद ही कोई हो जिसे यह पता हो कि भारत में भी इस प्रकार का कोई शहर है।

More Related Blogs

Back To Top