भारत की ये ऐतिहासिक इमारतें है प्राचीन इंजीनियरिंग का बेहतरीन नमूना

भारत जितना आज समृद व् खुशहाल देश है उतना ही यह प्राचीन समय में रहा था. प्राचीन भारत की समृदि का आकलन आप भारत देश के प्राचीन किलो, इमारतों इत्यादि से लगा सकते है जो भारत देश की समृदि का गुणगान करती है. उदाहरण के तोर पर सैकड़ो साल पुराणी इमारतों की सुंदरता, बनावट, कलाकृतिया इत्यादि प्राचीन भारत के जन-

Posted 8 months ago in Other.

User Image
Rajkumar Prajapat
1043 Friends
2 Views
19 Unique Visitors
भारत जितना आज समृद व् खुशहाल देश है उतना ही यह प्राचीन समय में रहा था. प्राचीन भारत की समृदि का आकलन आप भारत देश के प्राचीन किलो, इमारतों इत्यादि से लगा सकते है जो भारत देश की समृदि का गुणगान करती है. उदाहरण के तोर पर सैकड़ो साल पुराणी इमारतों की सुंदरता, बनावट, कलाकृतिया इत्यादि प्राचीन भारत के जन-धन की समृद्धि की और इशारा करती है.

जी हां दोस्तों, आज हम आपके लिए भारत की वो 5 प्रसिद्द इमारतों के बारे में बता रहे है. जिन्हें विश्व में सबसे ज्यादा नाम व् शोहरत हासिल है. तो चलिए जानते है

विश्व में प्रसिद्द भारत की 5 प्राचीन इमारते



1. ताज महल , आगरा



विश्व के प्रत्येक देश में जाना जाने वाला यह नाम ताजमहल भारत की ऐतिहासिक व् प्रसिद्द धरोहर है. ताज महल को शाहजहाँ ने अपनी पत्नी मुमताज महल की याद में 1632 में बनवाया था. सफ़ेद संगमरमर से बने ताज महल को बनाने में करीब 22 वर्ष का समय लगा था.इस खूबसूरत धरोहर को बनाने में 25000 से भी अधिक कारीगरों ने 22 वर्षों की कड़ी मेहनत कर बनाया था.शाहजहाँ की पत्नी मुमताज महल के नाम पर ही इस महल का नाम ताजमहल पड़ा. भारत में विश्व से आने वाले सैलानियों में सर्वादिक संख्या ताजमहल देखने वाले सैलानियों की होती है.उत्तरप्रदेश के आगरा शहर में बनी यह प्राचीन धरोहर विश्व की नंबर 1 पर मानी जाने वाली प्राचीन ईमारत है.



2. कुतुबमीनार, दिल्ली



दिल्ली शहर में स्थित कुतुबमीनार भी विश्व की प्राचीन इतिहासिक धरोहरो में एक विशिष्ट स्थान रखती है. हर साल लाखो की संख्या में विदेशी पर्यटक इस खूबसूरत मीनार को देखने भारत के दिल्ली शहर में आते है.


क़ुतुब मीनार का निर्माण कार्य 1199 में क़ुतुब उद दिन ऐबक ने प्रारम्भ करवाया था. बाद में ऐबक उत्तराधिकारी ने क़ुतुब मीनार में तीन मंजिल और बनवाई व् इसके बाद फिरोजशाह तुगलक ने भी इसका पुनर्निर्माण कराया बलुआ पत्थरो से बनाई गयी यह मीनार आज भी उतनी मजबूती से खड़ी है जितने यह आज से 700 साल पहले रही होगी.



3. हवा महल , जयपुर



जयपुर शहर की प्राचीन ईमारत हवा महल भारत ही नहीं अपितु विश्व भर मई जाना जाता है. भारत आने वाले लगभग 70 प्रतिशत सैलानी हवा महल देखने राजस्थान जरूर जाते है.

हवा महल का निर्माण महाराजा सवाई प्रताप सिंह ने 1799 राजस्थान के जयपुर शहर में करवाया था. लाला-गुलाबी पत्थरों से बने इस महल की खास बात यह है कि बाहर हवा न चलने पर भी महल के अंदर आपको ठंडी हवा का अहसास होगा. इस महल में 953 खिड़कियाँ हैं.



4. लाल किला, दिल्ली



प्राचीन समय में कहाँ जाता था अगर कोई योद्धा इस महल को जीत लेता था तो उसकी हुकूमत पुरे भारत पर हो जाती थी. भारत की प्राचीन ऐतिहासिक धरोहर लाल किला अपनी उत्कृट बनावट व् कलाकृतियों के लिए समूचे विश्व में प्रसिद्द है.



इस किले का निर्माण 1638 से 1648 के बीच शाहजहाँ ने करवाया था. शाहजहाँ ने जब आगरा छोड़कर दिल्ली को अपनी राजधानी बनाया तब लालकिले का निर्माण करवाया था जिसे बनने में करीब 10 वर्ष लगे थे. तब इसका नाम किला ए मुबारक रखा गया था. परंतु समय के साथ किला ए मुबारक के नाम में परिवर्तन हुआ व् यह आज का लाल किला बन गया है.



5. कोर्णाक मंदिर, पूरी ओडिशा



प्राचीन इंजीनियरिंग का प्रतीक पूरी का कोर्णाक मंदिर भी उत्कृट कला का जीता जगता नमूना है. यह मदिर सूर्य देव को समर्पित है. कहाँ जाता है इस मंदिर के गुंबद के परछाई धरती पर नहीं पड़ती है. इसका निर्माण गंग वंश के रजा नरसिम्हा देव प्रथम ने 1278 में करवाया था. यह मंदिर अपने निर्माण के इतने समय बाद भी अपनी कलात्मक भव्यता से सभी को आकर्षित कर रहा है. हर साल देश विदेश से हजारो की संख्या में सैलानी व् श्रदालु इस मंदिर को देखने आते है.
Tags: news,

More Related Blogs

Article Picture
Rajkumar Prajapat 7 months ago 3 Views