महाभारत/ युधिष्ठिर के श्राप के कारण महिलाएं किसी भी बात को नहीं रख पाती हैं गुप्त

रिलिजन डेस्क. आपने कई बार लोगों को ऐसा कहते हुए सुना होगा कि महिलाओं को कभी कोई राज़ की बात नहीं बताना चाहिए, क्य

Posted 9 months ago in History and Facts.

User Image
Poonam Namdev
28 Friends
2 Views
30 Unique Visitors
महाभारत के शांति पर्व के अनुसार, युद्ध समाप्त होने के बाद जब कुंती ने युधिष्ठिर को बताया कि कर्ण तुम्हारा बड़ा भाई था तो पांडवों को बहुत दुख हुआ।   तब युधिष्ठिर ने विधि-विधान पूर्वक कर्ण का भी अंतिम संस्कार किया। माता कुंती ने जब पांडवों को कर्ण के जन्म का रहस्य बताया।  इस बारे में जानकर सभी को बहुत दुख हुआ और गुस्से आकर युधिष्ठिर ने संपूर्ण स्त्री जाति को श्राप दिया कि- आज से कोई भी स्त्री गुप्त बात छिपा कर नहीं रख सकेगी। ऐसा माना जाता है कि तभी से औरतों को यदि कोई बात बताई जाए तो वो ज्यादा समय तक गुप्त नहीं रह सकती वह उसे किसी ना किसी को बता ही देती हैं।   महाभारत के शांति पर्व के अनुसार, युद्ध समाप्त होने के बाद जब कुंती ने युधिष्ठिर को बताया कि कर्ण तुम्हारा बड़ा भाई था तो पांडवों को बहुत दुख हुआ।   तब युधिष्ठिर ने विधि-विधान पूर्वक कर्ण का भी अंतिम संस्कार किया। माता कुंती ने जब पांडवों को कर्ण के जन्म का रहस्य बताया।  इस बारे में जानकर सभी को बहुत दुख हुआ और गुस्से आकर युधिष्ठिर ने संपूर्ण स्त्री जाति को श्राप दिया कि- आज से कोई भी स्त्री गुप्त बात छिपा कर नहीं रख सकेगी। ऐसा माना जाता है कि तभी से औरतों को यदि कोई बात बताई जाए तो वो ज्यादा समय तक गुप्त नहीं रह सकती वह उसे किसी ना किसी को बता ही देती हैं।
Tags: Mahabharat#,

More Related Blogs

Article Picture
Poonam Namdev 8 months ago 6 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 3 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 1 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 5 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 3 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 3 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 2 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 3 Views
Back To Top