यता यात नियम का पालन

यातायात नियम का पालन कराने वाले
पुलिस कर्मी ही नियम को तोड़ते हुए सड़क पर वाहन दौड़ा रहे हैं।
ऐसे में नियम की बात बताना वाहन चालकों को कहां तक सही है

Posted 7 months ago in News and Politics.

User Image
Pawan Malviya
1303 Friends
121 Views
19 Unique Visitors
यातायात नियम का पालन कराने वाले पुलिस कर्मी ही नियम को तोड़ते हुए सड़क पर वाहन दौड़ा रहे हैं। ऐसे में नियम की बात बताना वाहन चालकों को कहां तक सही है यह वाहन चलाने वाले अक्सर चौराहों पर बात कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि पहले नियम का स्वयं पालन करें और फिर वाहन चालकों पर चलानी की कारवाई की जानी चाहिए। कोठी कम्पाउंड एसपी कार्यालय के पास नो पार्किंग क्षेत्र में वाहन पुलिस कर्मी खड़ा कर रहा था। मुख्य बाजार शिल्पी प्लाजा में बिना हेलमेट पहनकर पुलिसकर्मी दोपहिया वाहन चला रहा था। इसी तरह झिरिया स्थित मुख्य मार्ग में भी पुलिस कर्मी बिना हेलमेट लगाकर वाहन दौड़ाता नजर आया।
ज्ञात हो कि पुलिस द्वारा 4 से 10 फरवरी तक चलाया गया। तो वहीं लोगों को ट्रैफिक नियम की जानकारी देकर जागरूक किया गया। लेकिन इस जागरूकता का कोई खास असर शहर में नजर नहीं आ रहा है। वहीं ट्रैफिक पुलिस महज चालानी कारवाई तक देखी जा रही है। शहर की सड़कों में भले ही जाम का झाम हो लेकिन पुलिस हर समय चालानी कारवाई करके इनकम में जुटी हुई है। सबसे ज्यादा चलानी कार्रवाई जयस्तभ आदि ऐसे स्थानों में पुलिस की दिख रही है।यातायात नियम का पालन कराने वाले पुलिस कर्मी ही नियम को तोड़ते हुए सड़क पर वाहन दौड़ा रहे हैं। ऐसे में नियम की बात बताना वाहन चालकों को कहां तक सही है यह वाहन चलाने वाले अक्सर चौराहों पर बात कर रहे हैं।
यातायात नियम का पालन कराने वाले पुलिस कर्मी ही नियम को तोड़ते हुए सड़क पर वाहन दौड़ा रहे हैं। ऐसे में नियम की बात बताना वाहन चालकों को कहां तक सही है यह वाहन चलाने वाले अक्सर चौराहों पर बात कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि पहले नियम का स्वयं पालन करें और फिर वाहन चालकों पर चलानी की कारवाई की जानी चाहिए। कोठी कम्पाउंड एसपी कार्यालय के पास नो पार्किंग क्षेत्र में वाहन पुलिस कर्मी खड़ा कर रहा था। मुख्य बाजार शिल्पी प्लाजा में बिना हेलमेट पहनकर पुलिसकर्मी दोपहिया वाहन चला रहा था। इसी तरह झिरिया स्थित मुख्य मार्ग में भी पुलिस कर्मी बिना हेलमेट लगाकर वाहन दौड़ाता नजर आया।

ज्ञात हो कि पुलिस द्वारा 4 से 10 फरवरी तक चलाया गया। तो वहीं लोगों को ट्रैफिक नियम की जानकारी देकर जागरूक किया गया। लेकिन इस जागरूकता का कोई खास असर शहर में नजर नहीं आ रहा है। वहीं ट्रैफिक पुलिस महज चालानी कारवाई तक देखी जा रही है। शहर की सड़कों में भले ही जाम का झाम हो लेकिन पुलिस हर समय चालानी कारवाई करके इनकम में जुटी हुई है। सबसे ज्यादा चलानी कार्रवाई जयस्तभ आदि ऐसे स्थानों में पुलिस की दिख रही है।

More Related Blogs

Article Picture
Pawan Malviya 17 days ago 19 Views
Back To Top