रामेश्वरम मंदिर का इतिहास

रामेश्वरम हिंदुओं का एक पवित्र तीर्थ है। यह तमिल नाडु के रामनाथपुरम जिले में स्थित है। यह तीर्थ हिन्दुओं के चार धामों में से एक है। इसके अलावा यहां स्थापित शिवलिंग बारह द्वादश ज्योतिर्लिंगोंमें से एक माना जाता है।[क] भारत के उत्तर मे काशी की जो मान्यता है, वही दक्षिण में रामेश्वरम् की है। रामेश्वरम 

Posted 4 months ago in Places and Regions.

User Image
Honey vishwakarma
26 Friends
1 Views
4 Unique Visitors
रामेश्वरम चेन्नई से लगभग सवा चार सौ मील दक्षिण-पूर्व में है। यह हिंद महासागर और बंगाल की खाड़ी से चारों ओर से घिरा हुआ एक सुंदर शंख आकार द्वीप है। बहुत पहले यह द्वीप भारत की मुख्य भूमि के साथ जुड़ा हुआ था, परन्तु बाद में सागरकी लहरों ने इस मिलाने वाली कड़ी को काट डाला, जिससे वह चारों ओर पानी से घिरकर टापू बन गया। यहां भगवान राम ने लंका पर चढ़ाई करने से पूर्व एक पत्थरों के सेतु का निर्माण करवाया था, जिसपर चढ़कर वानर सेना लंका पहुंची व वहां विजय पाई। बाद में राम ने विभीषण के अनुरोध पर धनुषकोटि नामक स्थान पर यह सेतु तोड़ दिया था। आज भी इस ३० मील (४८ कि.मी) लंबे आदि-सेतु के अवशेष सागर में दिखाई देते हैं।[1] यहां के मंदिर के तीसरे प्राकार का गलियारा विश्व का सबसे लंबा गलियारा है।[2][3][4]रामेश्वरम हिंदुओं का एक पवित्र तीर्थ है जो तमिल नाडु स्थित रामनाथपुरम जिले में है। यह तीर्थ हिन्दुओं के चार धामों में से एक है, जिसका अर्थ है ‘भगवान राम’। यहां भगवान राम ने लंका पर चढ़ाई करने से पूर्व एक पत्थरों के सेतु का निर्माण करवाया था, जिसपर चढ़कर वानर सेना लंका पहुंची और वहां विजय प्राप्त की। बाद में श्रीराम ने विभीषण के अनुरोध पर धनुष्कोटि नामक स्थान पर यह सेतु तोड़ दिया था। आज भी इस 30 मील लंबे सेतु के तथ्य सागर में दिखाई देते हैं|
रामायण के अनुसार श्री राम ने ब्राह्मण रावण का वध किया था और फिर इसी जगह तपस्या की थी ताकि उनसे युद्ध में हुए सभी पापों का प्रायश्चित हो पाए| पुराणों में इस बात का उल्लेख है कि ऋषियों के कहने पर श्री राम ने अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ शिवलिंग की पूजा की थी|
श्री रामेश्वर मंदिर 1000 फुट लम्बा, 650 फुट चौड़ा तथा 150 फुट ऊँचा है| इस मंदिर के प्रधान रूप से भी कुछ अधिक शिव जी की लिंग मूर्ति स्थापित है| मंदिर में कई सुंदर-सुंदर शिव जी की प्रतिमाएं है| उत्तराखंड के गंगोत्री से गंगाजल लाकर श्री रामेश्वर ज्योतिर्लिंग पर चढ़ाने का विशेष महत्व है|
24 कुंड 
श्री रामेश्वर मंदिर के अंदर 24 कुँओं का निर्माण कराया गया है, जिन्हे तीर्थ कहा जाता है| मंदिर के बाहर कई कुँए और भी है परन्तु उनका पानी खारा है| परन्तु मंदिर के अंदर के कुँओं का जल मीठा है| ऐसा माना जाता है कि यह कुँए भगवान राम के अमोघ बाणों से तैयार किए गए थे| उन्होंने अनेक तीर्थो से जल मंगा क्र इनमें छोड़ा था, तभी इन्हे तीर्थ कहा जाता है| उनमें से कुछ के नाम इस प्रकार हैं- गंगा, यमुना, गया, शंख, चक्र आदि|
Tags: yamini,

More Related Blogs

Article Picture
Honey vishwakarma 2 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 2 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 0 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 0 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 3 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 4 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 4 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 4 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 5 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 4 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 4 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 5 months ago 2 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 5 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 5 months ago 1 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 5 months ago 4 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 5 months ago 5 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 5 months ago 3 Views
Article Picture
Honey vishwakarma 5 months ago 8 Views
Back To Top