लकवा कैसे होता है, क्या है इसके मुख्य कारण और कैसे बचे, अभी जाने वरना कोई नहीं बताएगा

लकवा कैसे होता है, क्या है इसके मुख्य कारण और कैसे बचे, अभी जाने वरना कोई नहीं बताएगा

Posted 7 months ago in Live Style.

User Image
BIKASH YADAV
84 Friends
1 Views
1 Unique Visitors
दोस्तों जब किसी व्यक्ति को जिस अंग में लकवा मार देता है। तो उस व्यक्ति के वह अंग काम करना बंद कर देता हैं। अक्सर आपने किसी के मुंह से सुना होगा कि उस व्यक्ति को लकवा मार दिया है। या फिर पैरालाइसिस का अटैक आया है। तो आज मैं आपको बताने वाली हूं लकवा कैसे होता है और क्या है इसके उपचार और लक्षण तो आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से।

लकवा कैसे होता है-

जब किसी व्यक्ति का दिमाग पर मसल्स का सिग्नल जाना बंद हो जाता है। उस व्यक्ति को लकवा होने का संकेत होता है। जब व्यक्ति के बॉडी के किसी हिस्से के नसों का ब्लड सरकुलेशन धीरे धीरे कम होकर बंद हो जाता है। तो ऐसे में नसों में ब्लॉकेज हो जाने के कारण ब्रेन से सिग्नल आना भी बंद हो जाता है। तब ऐसे में इंसान को लकवा होने का बहुत ज्यादा खतरा बढ़ जाता है।

यह है इसके 3 कारण-

1) आपको बता दें कि जब कोई व्यक्ति बहुत ही ज्यादा नेगेटिव सोचते हैं। और जो व्यक्ति बहुत ही ज्यादा नेगेटिव सोच रखते हैं। इसके कारण वह डिप्रेशन में चले जाते हैं। और जो व्यक्ति बहुत ही ज्यादा मानसिक तनाव में रहता है। तो ऐसे में उस व्यक्ति को लकवा की शिकायत हो जाती है। या पैरालाइसिस हो जाता है।

2) जिन व्यक्ति का ब्लड प्रेशर हर समय हाई रहता है। ऐसे में उन्हें कोई दुखद समाचार दे देता है। जैसे कि अचानक रिश्तेदारी में किसी के मौत की या फिर एक्सीडेंट की खबर सुनकर, ऐसे में हाई बीपी वाले लोग को ऐसी दुखद खबर को सुनकर उनका बीपी और हाई हो जाता है। जिसके कारण ब्लड सरकुलेशन थम जाता है। पैरालाइसिस की समस्या हो सकती है।

3) आजकल लोगों के खाने पीने की चीजों में जो केमिकल बहुत ही ज्यादा प्रयोग होने की वजह से आपके शरीर में टॉक्सिन की मात्रा बहुत ज्यादा बढ़ जाती है। और पेट में बहुत ज्यादा टॉक्सिन बढ़ जाने के कारण धीरे-धीरे ब्लड सरकुलेशन बंद हो जाता है। इस वजह से लकवा का शिकायत हो सकती है।

यह है इसके लक्षण- जिस व्यक्ति को जिस अंग में लकवा मार देता है उस व्यक्ति का उस तरह का अंग काम करना बंद कर देता है और वह हिस्सा शून्य हो जाता है। लकवा में मुंह भी टेढ़ा हो जाता है। साथ ही आंख नाक कान गर्दन भी टेढ़े को जाते हैं। तथा दर्द की समस्या हो जाती है। और मुंह से लार गिरने लगती है इसके साथ आवाज नहीं निकल पाती है।

ये है इसके 3 घरेलू उपचार-

1) जिस व्यक्ति को लकवा मार दिया है उस व्यक्ति के लिए 1 किलो सरसों तेल में आना 250 ग्राम लहसुन डालकर उबालें। जब तेल मे लहसुन अच्छी तरह पक जाए तो उसे उतारने और ठंडा करके छानकर किसी शीशी में भरकर रख लें। इस तेल से व्यक्ति के शरीर की उस स्थान पर जहां लकवा ग्रस्त है। रोजाना वहां पर अच्छे से मालिश करें। ऐसा करने से धीरे-धीरे लकवा ठीक होने लगेगा और अंदर से ताकत आने लगेगी।

2) जिस इंसान को लकवा मार दिया है उसे रोजाना दिन में तीन बार गाय के घी का 10 बून्द नाक में डालें। ऐसा करने से लाभ मिलता है।

3) उरद कौंच के बीज एरंड की जड़ हींग और सेंधा नमक इन्हें बराबर मात्रा में लेकर काढ़ा बना ले। इस काढ़ा को रोगी को पिलाने से बहुत जल्द आराम मिलता है। ऐसा करने से वह अंग काम करने लगेगा। जिस अंग में लकवा मार दिया है।

More Related Blogs

Back To Top