वन विहार नेशनल पार्क भोपाल घूमने की जानकारी

वन विहार राष्ट्रीय उद्यान मध्य भारत का एक ऐसा नेशनल पार्क है जो पर्यटकों के लिए बहुत खास जगह है।

Posted 8 months ago in Places and Regions.

User Image
Poonam Namdev
28 Friends
6 Views
37 Unique Visitors
यह नेशनल पार्क लगभग 4.45 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है, जिसे 1979 में एक राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था। भले ही इस पार्क को राष्ट्रीय उद्यान का दर्जा प्राप्त है, लेकिन इस पार्क को आधुनिक उद्यान के रूप में विकसित किया गया है। इस पार्क में जानवरों को उनके प्राकृतिक आवास के रूप में रखा गया है। यदि आप वन विहार नेशनल पार्क भोपाल घूमने का प्लान बना रहें हैं तो हम आपको भोपाल वन विहार की संपूर्ण जानकारी इस लेख में उपलब्ध करा रहें हैं।वन विहार नेशनल पार्क की सबसे खास बात यह है कि इसमें ज्यादातर रहने वाले जानवर ऐसे हैं,  जो या तो अनाथ हैं या फिर इन्हें किसी दूसरे चिड़िया घर लाया गया है। इस राष्ट्रीय उद्यान के लिए किसी भी जानवर को जानबूझकर जंगल से नहीं पकड़ा गया है। वन विहार दूसरे नेशनल पार्क से अलग इसलिए है क्योंकि इस पार्क में आने वाले पर्यटक सड़क के माध्यम से आसानी से यहां पहुँच और घूम सकते हैं। इस पार्क में जानवरों के लिए खाइयों और दीवारों, तार की बाड़ का निर्माण किया गया है जो यहां रहने वाले जानवरों की शिकारियों से सुरक्षा के साथ एक प्राकृतिक आवास प्रदान करता हैवन विहार में पाए जाने वाले वनस्पति दक्षिणी शुष्क पर्णपाती झाड़ी जंगलों से संबंधित है। जिनमे आंवला, सागौन, डूडी, बेल, अमलतास, साजा, पलास, करधई और तेंदू जैसे वनस्पतियों के नाम शामिल हैं। इसके साथ ही यहां कई प्रकार की घास जैसे दूब, कुसई, लापुसरी, भंजुरा, और फुलेरा पाई जाती है। इसके अलावा इस पार्क में बैंगून क्रीपर, करैच, गोमची और मल्कंगनी जैसे बेल वाली वनस्पति भी पाए जाते हैं।जंगली जानवरों के अलावा आप वन विहार नेशनल पार्क में लाल बंदर, सांभर, ब्लैकबक(कृष्णमृग), ब्लू बुल, नीलगाय, चौसिंगा, जंगली सूअर, चीतल, पोरचिनी, हरे, आम लंगूर, रीसस मकाक बंदर जैसे हरे पौधे खाने वाले जानवरों को भी देख सकते हैं। इन सभी जानवरों को वन विहार पार्क में इनके प्राकृतिक आवास के समान क्षेत्रों में सुरक्षित रखा गया है।वन विहार नेशनल पार्क प्रबंधन ने सफारी सवारी भी शुरू की है जो पर्यटकों को पार्क के आंतरिक भागों में ले जाती है। यह प्रति व्यक्ति 50 रूपये का शुल्क लेता है, लेकिन इसके लिए न्यूनतम छह लोग हों अन्यथा यदि कोई व्यक्ति अकेले जाना चाहता है, तो उसे 300 रूपये का भुगतान करना होगा।

More Related Blogs

Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 6 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 3 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 1 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 5 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 3 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 3 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 2 Views
Article Picture
Poonam Namdev 9 months ago 3 Views
Back To Top