संगणक, कंप्यूटर, परिकलक; 

कंप्यूटर (अन्य नाम - संगणक, कंप्यूटर, परिकलक; वस्तुतः एक अभिकलक यंत्र (programmable machine) है जो दिये गये गणितीय तथा तार्किक संक्रियाओं को क्रम से स्वचालित रूप से करने में सक्षम है। इसे अंक गणितीय, तार्किक क्रियाओं व अन्य विभिन्न प्रकार की गणनाओं को सटीकता से पूर्ण करने के लिए योजनाबद्ध तरीके से न

Posted 3 months ago in Science and Technology.

User Image
Ashish kashyap
15 Friends
1 Views
1 Unique Visitors
कंप्यूटर (अन्य नाम - संगणक, कंप्यूटर, परिकलक; वस्तुतः एक अभिकलक यंत्र (programmable machine) है जो दिये गये गणितीय तथा तार्किक संक्रियाओं को क्रम से स्वचालित रूप से करने में सक्षम है। इसे अंक गणितीय, तार्किक क्रियाओं व अन्य विभिन्न प्रकार की गणनाओं को सटीकता से पूर्ण करने के लिए योजनाबद्ध तरीके से निर्देशित किया जा सकता है। चूंकि किसी भी कार्य योजना को पूर्ण करने के लिए निर्देशो का क्रम बदला जा सकता है इसलिए संगणक एक से ज्यादा तरह की कार्यवाही को अंजाम दे सकता है। इस निर्देशन को ही कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग कहते है और संगणक कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग भाषा की मदद से उपयोगकर्ता के निर्देशो को समझता है। यांत्रिक संगणक कई सदियों से मौजूद थे किंतु आजकल अभिकलित्र से आशय मुख्यतः बीसवीं सदी के मध्य में विकसित हुए विद्दुत चालित अभिकलित्र से है। तब से अबतक यह आकार में क्रमशः छोटा और संक्रिया की दृष्टि से अत्यधिक समर्थ होता गया हैं। अब अभिकलक घड़ी के अन्दर समा सकते हैं और विद्युत कोष (बैटरी) से चलाये जा सकते हैं। निजी अभिकलक के विभिन्न रूप जैसे कि सुवाह्य संगणक, टैबलेट आदि रोजमर्रा की जरूरत बन गए हैं।परंपरागत संगणकों में एक केंद्रीय संचालन इकाई (सीपीयू ) और सूचना भन्डारण के लिए स्मृति होती है। संचालन इकाई अंकगणित व तार्किक गणनाओ को अंजाम देती है और एक अनुक्रमण व नियंत्रण इकाई स्मृति में रखे निर्देशो के आधार पर संचालन का क्रम बदल सकती है। परिधीय या सतह पे लगे उपकरण किसी बाहरी स्रोत से सूचना ले सकते है व कार्यवाही के फल को स्मृति में सुरक्षित रख सकते है व जरूरत पड़ने पर पुन: प्राप्त कर सकते हैं।

एकीकृत परिपथ पर आधारित आधुनिक संगणक पुराने जमाने के संगणकों के मुकबले करोड़ो अरबो गुना ज्यादा समर्थ है और बहुत ही कम जगह लेते है। [1] सामान्य संगणक इतने छोटे होते है कि मोबाइल फ़ोन में भी समा सकते है और मोबाइल संगणक एक छोटी सी विद्युत कोष(बैटरी) से मिली ऊर्जा से भी काम कर सकते है। ज्यादातर लोग “संगणकों” के बारे में यही राय रखते है कि अपने विभिन्न स्वरूपों में व्यक्तिगत संगणक सूचना प्रौद्योगिकी युग के नायक है। हालाँकि embedded system|सन्निहित संगणक जो कि ज्यादातर उपकरणों जैसे कि आंकिक श्रव्य वादक|एम.पी.३ वादक, वायुयान व खिलौनों से लेकर औद्योगिक मानव यन्त्र में पाये जाते है लोगो के बीच ज्यादा प्रचलित है।

eकंप्यूटर की फुल फॉर्म क्या होती है C= Common O= Oriented M= Machine P= Particularly U= United and used under T= Technical and E= Educational R= Researchकंप्यूटर शब्द का प्रथम प्रयोग वर्ष १६१३ में अंग्रेज लेखक रिचर्ड ब्रेथवेट की पुस्तक '"द यंग मैन ग्लीनिंग्स"' में पाया गया। मैंने समय के सबसे सही कम्प्यूटरों को और धरा पे जन्मे सर्वोत्तम अंक गणितज्ञ को पढ़ा है। [2] यह उस व्यक्ति के बारे में बताता है जो गणनाएँ (computations) करता था, तभी से यह शब्द २०वी शताब्दी के मध्य तक इस सन्दर्भ में हूबहू प्रयोग होता आ रहा है। उन्नीसवी शताब्दी के अंत से इस शब्द ने और ज्यादा व्यवहारिक रूप ले लिया, यानी कि वो यन्त्र जो गणनाएँ करता है। संगणक व अभिकलित्र नाम भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा जारी किये गए हैं।चित्र:Os_d'Ishango_IRSNB.JPG|thumb|right|100px|इशांगो कि हड्डी यांत्रिक रेखीय संगणक|यांत्रिक रेखीय (एनालॉग) संगणकों का प्रादुर्भाव प्रथम शताब्दी में होना शुरू हो गया था जिन्हे बाद में मध्यकालीन युग में खगोल शास्त्रीय गणनाओ के लिए इस्तेमाल भी किया गया। यांत्रिक रेखीय संगणकों को द्धितीय विश्व युद्ध के दौरान विशेषीकृत सैन्य कार्यो में उपयोग किया गया। इसी समय के दौरान पहले विद्दुतीय अंकीय परिपथ वाले संगणको का विकास हुआ। प्रारम्भ में वो एक बड़े कमरे के आकार के होते थे और आज के आधुनिक सैकड़ों निजी संगणकों [3] के बराबर बिजली का उपभोग करते थे। पहली इलेक्ट्रॉनिक अंकीय संगणक यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका में 1940 और 1945 के बीच विकसित किया गया।

गणनाएँ करने के लिये यन्त्रो का इस्तेमाल हज़ारो वर्षो से होता आ रहा है खासकर उग्लियो से गिनती करने वाले उपकरणो का। शुरुवाती गणन यन्त्र सम्भवत: मिलान छड़ी|वो लकड़ी जिस पर गिनती के लिये दांत खोदे गये हो या मिलान छड़ी का एक रूप थी। बाद में मध्य पूर्व में उपजाऊ भूमि के एक भौगोलिक क्षेत्र जो कि आकार में अर्द्ध चंद्र जैसा दिखता है में अभिलिेखो को रखने के लिए कॅल्क्युली(मिटटी के गोले, शंकु) का इस्तेमाल होता रहा जो की अधपके और खोखले मिटटी के बर्तनो में रखा होता था। इनका उपयोग सामान की गिनती (अधिकतर पशुधन व अनाज) दर्शाने के लिए किया जाता था। [4][5] गिनती की छड़े|गिनती की छड़ों का उपयोग इसका एक उदहारण है।
शुरुवात में गिनतारे का उपयोग अंकगणितीय कार्यो के लिए होता था। जिसे आज हम रोमन गिनतारा कहते है उसका उपयोग २४०० ईसा पूर्व के प्रारम्भ में बेबीलोनिआ में हुआ था। तब से अब तक गड़ना व हिसाब लगाने के लिए कई अन्य गणन् पट्टियो व गोलियो का आविश्कार हो चुका है। एक मध्ययुगीन युरोपीय गडना घर|गड़ना घर में मेज पर चितकबरे कपडे को रख दिया जाता था और कुछ विशेष नियमो के अनुसार उसपर मोहरों को चलाकर पैसे जोड़ने के लिए एक साधन के तौर पे इस्तेमाल किया जाता था।

More Related Blogs

Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 3 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 4 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 2 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 3 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 2 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 0 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Article Picture
Ashish kashyap 3 months ago 1 Views
Back To Top