सुबह खाली पेट नीम के पत्तों को खाने से जड़ से खत्म हो जाते है ये 5 रोग

शरीर के लिए नीम बहुत ही लाभकारी है। इतना ही नहीं भारत के हर गांव में नीम को दवाखाना के नाम से भी जाना जाता है। पिछले चार हजार सालों से नीम को आयुर्वेद में इस्तेमाल किया जा रहा है।

Posted 7 months ago in Other.

User Image
manisha ray
66 Friends
3 Views
26 Unique Visitors
कई शक्ति वर्धक रासायन नीम के तने, पत्ती, जड़, छाल और कच्चे फलों में मिलते हैं। खासतौर पर मलेरिया और त्वचा संबधी किसी भी बीमारी में नीम की छाल का इस्तेमाल किया जाता है।


नीम के सारे ही हिस्सों को औषधि की तरह प्रयोग किया जाता है। नीम के पेड़ में चैत्र के महीने में नई पत्तियां आती हैं। आयुर्वेद के कहा गया है कि चैत्र माह में नीम के पत्तों का सेवन जो करता है वह सैकड़ों बीमारियों से पूरे साल दूर रहता है। कुछ ऐसे भी लोग होते हैं जो नीम के कच्चे पत्तों को खा लेते हैं।


तो वहीं कुछ ऐसे भी लोग होते हैं जो नीम के पत्तों को पानी में उबालकर नमक के साथ खा लेते हैं। बता दें कि नीम के पत्तों में बहुत सारे जीवाणुरोधी रसायन भी होते हैं। नीम के पत्तों को 34 देशों में भेजा जाता है। नीम को अमेरिका में चमत्कारी पेड़ के नाम से भी जाना जाता है।

नीम के पत्तों का सेवन करने से इन बीमारियों से निजात मिलता है


1. नीम गुणकारी है शुगर को दूर रखने में

शरीर में ब्लड शुगर का स्तर नीम की पत्तियों को खाने से कम होता है। शरीर में शुगर की वजह से ऑक्सीडेटिव तनाव होता है जिसे नीम के पत्ते दूर करते हैं। मधुमेह की बीमारी के लिए नीम बहुत लाभकारी है।


2. नीम निजात दिलाता है संक्रमण से

नीम के पत्तों को पानी में उबाल लें और फिर उस पानी से हर रोज नहाएं। ऐसा करने से शरीर में हो रहे फोड़े, फुंसी और छोटे छोटे दाने यह सब कम हो जाते हैं।


3. नीम का धुंआ मलेरिया वाले मच्छर को दूर भगाता है

अगर आपको बुखार है तो आप उस समय नीम की पत्तियों को उस बीमारी में दौरान में इस्तेमाल करना है। नीम के पत्तों में गैडुनिन होता है जो मलेरिया के इलाज में बहुत लाभकारी होता है। इसके साथ ही शाम को घर के बाहर और अंदर दोनों जगह नीम के पत्तों को जला कर धुंआ करना चाहिए ऐसा करने से सारे मच्छर मर जाते हैं और मलेरिया से बचने का यह बहुत ही आसान तरीका है।


4. नीम अचूक इलाज है गठिया में

गठिया के इलाज में नीम के फलों और छालों का इस्तेमाल करना बहुत अच्छा होता है। नीम के फल से जो तेल निकलता है उसे जोड़े के दर्द पर मालिश करने से आराम मिलता है। पीठ के नीचे ऑस्टियोआर्थराइटिस के दर्द पर नीम की पत्तियों का लेप लगाने से बहुत राहत मिलती है।


5. मुंहासों को दूर करने के लिए चेहरे पर नीम का लेप लगाएं

अगर आपके चेहरे पर मुंहासे हो रहे हैं तो उसे कम करने के लिए अपने चेहरे पर नीम का लेप लगाएं। नीम के लेप के लिए पहले तो आप नीम के पत्तों को पानी में उबाल लें उसके बाद जब पानी ठंडा हो जाए तो उसे चेहरे को तीन से चार बार दिन में धोएं। चेहरे पर उसी नीम के पत्तों का पेस्ट बना लें उसे चेहरे पर लगाएं। नीम के इस पेस्ट को रोज अपने चेहरे पर लगाने से चेहरा तरो ताजा रहता है।

More Related Blogs

Back To Top