1300 साल से जमीन पर पैर ना रखने वाला यह दुनिया का इकलौता समुदाय, वजह है बेहद अजीब

1300 साल से जमीन पर पैर ना रखने वाला यह दुनिया का इकलौता समुदाय, वजह है बेहद अजीब
Original 2 Jul. 2019

DAILY BB NEWS
फ़ॉलोअर्स 10763
फॉलो करें
आमतौर पर इंसान जमीन पर ही अपना घर बनाकर रहते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि दुनिया में एक ऐसी भी जनजाति है, जिन्होंने पिछले 1300 साल से जमीन पर पैर ही नही

Posted 3 months ago in Other.

User Image
Ravi Pathariya
35 Friends
1 Views
8 Unique Visitors
1300 साल से जमीन पर पैर ना रखने वाला यह दुनिया का इकलौता समुदाय, वजह है बेहद अजीब
Original 2 Jul. 2019

DAILY BB NEWS
फ़ॉलोअर्स 10763
फॉलो करें
आमतौर पर इंसान जमीन पर ही अपना घर बनाकर रहते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि दुनिया में एक ऐसी भी जनजाति है, जिन्होंने पिछले 1300 साल से जमीन पर पैर ही नहीं रखा है। इसकी वजह जानेंगे, तो आप हैरान रह जाएंगे।


Third party image reference
इस जनजाति का नाम टांका है, जो चीन में निवास करती है। इस समुदाय के वाशिंदे जमीन पर नहीं बल्कि समुद्र में ही रहना पसंद करते हैं। पानी ही इनकी दुनिया है। टांका जनजाति के लगभग 7000 लोगों ने समुद्र में ही तैरता हुआ एक गांव बसाया है।


Third party image reference
दक्षिण चीन के पूर्व क्षेत्र में लगभग 7000 मछुआरों के परिवार अपने परंपरागत नावों के मकान में ही रहते हैं। इन घरों को आप समुद्र के पानी में तैरते हुए आप तस्वीर में देख सकते हैं। इन विचित्र घरों की एक पूरी बस्ती है। समुद्री मछुआरों की यह बस्ती फुजियान राज्य के दक्षिण पूर्व की निंगडे सिटी के पास समुद्र में आज भी तैर रही है। इन्हें 'जिप्सीज ऑफ द सी' कहा जाता है।


Third party image reference
बता दें कि चीन में 700 ईस्वी में तांग राजवंश का शासन था। टांका जनजाति के लोग वहां के शासकों के उत्पीड़न से इतने नाराज हुए कि उन्होंने समुद्र पर ही जीवन बिताना तय कर लिया। तभी से इन्हें 'जिप्सीज ऑफ द सी' कहा जाने लगा। यहाँ के लोग शायद ही कभी जमीन पर पैर रखते हों।

टांका जनजाति के लोगों का सारा जीवन पानी के घरों और मछलियों का शिकार में बीत जाता है। चीन में कम्युनिस्ट शासन की स्थापना से पहले ये लोग न तो किनारे पर आते थे और न ही समुद्र किनारे बसे अन्य समुदायों के लोगों के साथ शादी के रिश्ते बनाते थे। इनकी शादियां अभी भी नावों पर ही होती हैं।

Batatae चलें कि स्थानीय सरकार द्वारा प्रोत्साहन मिलने के बाद टांका जनजाति के कुछ लोग समुद्र किनारे घर बनाने लगे हैं, लेकिन अधिकांश लोग अभी भी अपने परंपरागत घरों में रहना पसंद करते हैं।

दोस्तों कैसी लगी आपको हम आज की खबर कमेंट करके जरूर बताएं, शिक्षा दोस्तों यदि अभी तक आपने हमारे चैनल को कॉल नहीं किया तो फॉलो जरूर करें ताकि आने वाली खबरें अब तक आसानी से पहुंच सकें।

(News Source-www.amarujala.com)

यह लेख पत्रकारिता सामग्री नहीं है। इसे वीमीडिया लेखक द्वारा कॉपीराइट किया गया है और किसी भी तरह से यह UC News के विचारों को नहीं दर्शाता है।

107 डिसलाइक
दोस्तों संग शेयर करें
AD

Make your cricket team & win real cash
Play Now

DAILY BB NEWS
फ़ॉलोअर्स 10763
देश विदेश से जुडी हर छोटी बडी खबर सबसे पहले पाने के लिये पीले स्थान पर क्लिक करके फालो जरूर कर लें। पाठकों हमें आपके सहयोग की बेहद जरूरत है।
फॉलो करें
रेकेमेंडेड लेख
कहानी इंडिया के सबसे रईस शहर मुंबई की, जो अब डूब रहा है
दुनिया के 3 बड़े खजाने जो गलती से लोगों को मिले
यहां 2019 नहीं चल रहा है 2011, दुनिया से 8 साल पीछे है ये देश...
Tags: Look chup,

More Related Blogs

Back To Top