महाकवि कालिदास और विक्रमादित्य | प्रेरक प्रसंग

महाकवि कालिदास और विक्रमादित्य | प्रेरक प्रसंग

LAST UPDATED: DECEMBER 21, 2017 BY GOPAL MISHRA6 COMMENTS

महाकवि कालिदास राजा विक्रमादित्य के प्रमुख दरबारियों में से एक थे। एक बार राजा विक्रमादित्य ने उनसे प्रश्न किया;

महात्मन आप इतने बड़े विद्वान हैं लेकिन आपका शरीर आपकी बुद्धि के अनुसार सुन्दर न

Posted 2 months ago in History and Facts.

User Image
rakshita joshi
115 Friends
1 Views
1 Unique Visitors
महाकवि कालिदास और विक्रमादित्य | प्रेरक प्रसंग

LAST UPDATED: DECEMBER 21, 2017 BY GOPAL MISHRA6 COMMENTS

महाकवि कालिदास राजा विक्रमादित्य के प्रमुख दरबारियों में से एक थे। एक बार राजा विक्रमादित्य ने उनसे प्रश्न किया;

महात्मन आप इतने बड़े विद्वान हैं लेकिन आपका शरीर आपकी बुद्धि के अनुसार सुन्दर नहीं है। इसकी वजह क्या है?



कालीदास उस समय चुप रहे। और बात को टाल गए। कुछ दिन बाद महाराज ने अपने सेवक से पीने के लिए पानी मांगा।

सेवक कालिदास के निर्देशानुसार दो बरतनों में पानी ले आया।

एक बरतन सधारण मिट्टी का था तो दूसरा बहुमुल्य धातु का था। महाराज ने आश्चर्य से इस तरह पानी लाने की वजह पूछी तो कालीदास ने आग्रह कर उन्हें दोनों बरतनों से पानी पीने को कहा।

महाराज ने ऐसा ही किया।

कछ समय पश्चात कालिदास ने महाराज से पूछा, ” महाराज इन दोनों बरतनों में से किस बरतन का पानी ज्यादा शीतल लगा ?”

“अवश्य मिटटी के बरतन का।” , महाराज ने सरलता पूर्वक जबाब दिया।

कालिदास मुस्कराए और बोले, ” राजन जिस प्रकार पानी की शीतलता बरतन की सुन्दरता पर निर्भर नहीं करती उसी प्रकार बुद्धि की सुन्दरता शरीर की सुन्दरता पर निभ्रर नहीं करती।”

राजा को अपने सवाल का जबाब मिल चुका था।

आर्य अभय कुमार

पठानकोट, पंजाब

आर्य अभय कुमार जी को पढ़ने-लिखने का शौक है।  आप वैदिक संस्कार वाटिका संस्था से जुड़े हुए हैं जहाँ बच्चों को वैदिक संस्कार सिखाये जाते हैं और अच्छे कर्म करने के लिए प्रेरित किया जाता है।

Other posts by Mr. Arya Abhaya Kumar:

सुकरात और आईना

महाकवि कालिदास और विक्रमादित्य | प्रेरक प्रसंग

LAST UPDATED: DECEMBER 21, 2017 BY GOPAL MISHRA6 COMMENTS

महाकवि कालिदास राजा विक्रमादित्य के प्रमुख दरबारियों में से एक थे। एक बार राजा विक्रमादित्य ने उनसे प्रश्न किया;

महात्मन आप इतने बड़े विद्वान हैं लेकिन आपका शरीर आपकी बुद्धि के अनुसार सुन्दर नहीं है। इसकी वजह क्या है?



कालीदास उस समय चुप रहे। और बात को टाल गए। कुछ दिन बाद महाराज ने अपने सेवक से पीने के लिए पानी मांगा।

सेवक कालिदास के निर्देशानुसार दो बरतनों में पानी ले आया।

एक बरतन सधारण मिट्टी का था तो दूसरा बहुमुल्य धातु का था। महाराज ने आश्चर्य से इस तरह पानी लाने की वजह पूछी तो कालीदास ने आग्रह कर उन्हें दोनों बरतनों से पानी पीने को कहा।

महाराज ने ऐसा ही किया।

कछ समय पश्चात कालिदास ने महाराज से पूछा, ” महाराज इन दोनों बरतनों में से किस बरतन का पानी ज्यादा शीतल लगा ?”

“अवश्य मिटटी के बरतन का।” , महाराज ने सरलता पूर्वक जबाब दिया।

कालिदास मुस्कराए और बोले, ” राजन जिस प्रकार पानी की शीतलता बरतन की सुन्दरता पर निर्भर नहीं करती उसी प्रकार बुद्धि की सुन्दरता शरीर की सुन्दरता पर निभ्रर नहीं करती।”

राजा को अपने सवाल का जबाब मिल चुका था।

More Related Blogs

Article Picture
rakshita joshi 25 days ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 25 days ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 29 days ago 1 Views
Article Picture
rakshita joshi 1 month ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 1 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 1 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 1 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 1 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 1 Views
Article Picture
rakshita joshi 2 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 2 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 2 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 1 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 0 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 1 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 7 Views
Article Picture
rakshita joshi 3 months ago 4 Views
Back To Top