CHAINA KE AAUTALETS KHOLE THe 

Staartap Ka Daava Hai Ki Organaizd Momo Bizanes Mein Unaka 90 Pratishat Maarket Sheyar Hai. 

Posted 2 months ago in .

User Image
Raj Singh
113 Friends
3 Views
1 Unique Visitors
कोलकाता में सेंट ज़ैवियर्स कॉलेज के दो स्टूडेंट्स ने एक

गैराज से वॉऊ! मोमो की शुरुआत की थी। इस ब्रैंड को

अब दस साल पूरे हो चुके हैं और वॉऊ! मोमो पिछले एक

दशक से मोमोज़ की शानदार रेंज ऑफ़र कर रहा है।

हाल में इस स्टार्टअप के 13 शहरों में 254 आउटलेट्स हैं

और स्टार्टअप अब प्रोफ़ाइल में वॉऊ! चाइना के नाम से

एक और नया अध्याय जोड़ने जा रहा है। स्टार्टअप का

दावा है कि ऑर्गनाइज़्ड मोमो बिज़नेस में उनका 90

प्रतिशत मार्केट शेयर है। अब यह  क्विक सर्विस 


रेस्तरां (QSR) चेन अपने नेटवर्क और भी विस्तृत करने की

योजना बना रही है और उनका लक्ष्य एक आईपीओ

(इनिशिएल पब्लिक ऑफ़रिंग) भी है। 


कोलकाता आधारित इस कंपनी के को-फ़ाउंडर और

सीईओ सागर दरयानी का कहना है, "हेल्थ और हाइजीन

को साथ लेकर चलने का कॉन्सेप्ट हमेशा ही 

ग्राहकों द्वारा पसंद किया जाता है। हमने सड़क किनारे

बिकने वाले फ़ूड आइटम को हाइजीन के साथ लोगों के


सामने पेश किया। हमने रोडसाइड मोमोज़ को एक ब्रैंड
नेम के साथ बेचा।" कंपनी के सीओओ बिनोद कुमाr

होमागई और सीएफ़ओओ शाह मिफ़्त उर


रहमान स्टार्टअप के अन्य दो को-फ़ाउंडर्स हैं।

वॉऊ! मोमो के बाद अब कंपनी अपने दूसरे ब्रैंड वाऊ!

चाइना को मज़बूत करने की दिशा में काम कर रही है, जिसे

इस साल की शुरुआत में ही लॉन्च किया 

गया था। कंपनी के को-फ़ाउंडर्स का कहना है कि अपने इस

दूसरे ब्रैंड के ज़रिए वे अपने ग्राहकों तक चाइनीज़ कुज़ीन के

इंडियन वर्जन्स को ग्राहकों तक 

पहुंचा रही है। कंपनी का मानना है कि उत्तर और दक्षिण

भारत में चाइनीज़ कुज़ीन बेहद लोकप्रिय है।

एफ़आईसीसीआई और टेक्नोपैक की रिपोर्ट के मुताबिक़,

भारत में फ़ूड सर्विस का मार्केट 2022 तक 5.52 ट्रिलियन रुपए तक पहुंचा जाएगा। रिपोर्ट्स का यह भी कहना है कि


भारत में घर पर बनने वाले भोजन के बाद लोग सबसे ज़्यादा

चाइनीज़ व्यंजन ही खाना पसंद करते  हैं। 


कंपनी के को-फ़ाउंडर सागर का कहना है कि उनकी कंपनी

आने वाले चार सालों में 1 हज़ार करोड़ रुपए तक पहुंचा जाएगी और उन्हें इस बात की पूरी 

उम्मीद है कि उस समय तक रेवेन्यू में एक चौथाई हिस्सा


वाऊ! चाइना का होगा। वित्तीय वर्ष 2019 में कंपनी का


रेवेन्यू 120 करोड़ रुपए तक पहुंच चुका था। कंपनी का लक्ष्य

है कि इस वित्तीय वर्ष में कंपनी के रेवेन्यू को 200 करोड़

रुपए तक पहुंचाया जाए। वाऊ ! मोमो की तरह वाऊ! चाइना

भी कियॉस्क्स, फ़ूड कोर्ट्स, टेक पार्क्स, हाई स्ट्रीट लोकेशन्स

और क्लाउट किचन्स के ज़रिए ही ऑपरेट कर रहा है। 

हाल में स्टार्टअप के कोलकाता, मुंबई, दिल्ली, गुरुग्राम,

नोएडा, फ़रीदाबाद, ग़ाज़ियाबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, कोचीन, भुवनेश्नर, कटक, पुरी और राउरकेला में आउटलेट्स हैं। जल्द

ही कंपनी गोवा, पुणे और हैदराबाद में भी आउटलेट्स शुरू


करने जा रही है। स्टार्टअप का उद्देश्य है कि वर्तमान वित्तीय वर्ष में 140 स्टोर्स खोले जाएं, जिसमें से 100 आउटलेट्स


वाऊ! मोमो के और 40 आउटलेट्स वॉऊ! चाइना के होंगे।

साथ ही, कंपनी इस साल बेंगलुरु में 6 और चेन्नई में 2

क्लाउड किचन्स खोलने के लिए भी प्रयास कर रही है।

पिछले साल स्टार्टअप ने 81 वाऊ! मोमो के और 3 वाऊ!


चाइना के आउटलेट्स खोले थे

More Related Blogs

Article Picture
Raj Singh 2 months ago 1 Views
Article Picture
Raj Singh 2 months ago 1 Views
Article Picture
Raj Singh 2 months ago 1 Views
Article Picture
Raj Singh 2 months ago 1 Views
Article Picture
Raj Singh 2 months ago 1 Views
Article Picture
Raj Singh 2 months ago 2 Views
Article Picture
Raj Singh 2 months ago 1 Views
Article Picture
Raj Singh 3 months ago 3 Views
Article Picture
Raj Singh 3 months ago 3 Views
Article Picture
Raj Singh 3 months ago 2 Views
Back To Top