PAK को छोड़ बिम्स्टेक देशों को शपथ में न्योता, ये है बड़ा संदेश

नरेंद्र मोदी के 30 मई को प्रधानमंत्री पद के शपथ ग्रहण समारोह में बिम्सटेक सदस्यों को आमंत्रित किया गया है, जबकि पाकिस्तान को इसके लिए निमंत्रण नहीं भेजा गया है

Posted 3 months ago in News and Politics.

User Image
Raj Singh
113 Friends
3 Views
1 Unique Visitors
नरेंद्र मोदी के 30 मई को प्रधानमंत्री पद के शपथ ग्रहण समारोह में बिम्सटेक सदस्यों को आमंत्रित किया गया है, जबकि पाकिस्तान को इसके लिए निमंत्रण नहीं भेजा गया है. कूटनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि इसके जरिये भारत ने पाकिस्तान को कड़ा संदेश देने की कोशिश की है. संदेश यह है कि जब तक पाकिस्तान अपनी जमीन से आतंकवाद को बढ़ावा देना बंद नहीं करता है, तब तक उसके साथ रिश्तों में कोई गतिशीलता देखने को नहीं मिलेगी.

विदेश मंत्रालय ने बिम्सटेक देश के नेताओं को आमंत्रण की सूचना साझा करते हुए बताया कि सरकार ने यह कदम 'पड़ोसी प्रथम' नीति के तहत उठाया है. अब सवाल है कि हमारा पड़ोसी तो पाकिस्तान भी है, लेकिन जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज के प्रोफेसर स्वर्ण सिंह सरकार के इस कदम को आतंकवाद के खिलाफ भारत के आक्रामक रुख के तौर पर देखते हैं.वह बताते हैं कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की और दोनों देशों के लोगों की बेहतरी के लिए मिलकर काम करने की अपनी इच्छा व्यक्त की. लेकिन इसके बावजूद पीएम मोदी ने इमरान खान को आमंत्रित नहीं किया और अब बिमस्टेक देशों को आमंत्रित किया गया है. इसका मतलब है कि आतंकवाद पर पाकिस्तान को कड़ा संदेश देने की कोशिश की गई है.

प्रोफेसर स्वर्ण सिंह ने aajtak.in को बताया, 'इसे हमें थोड़ा पीछे जाकर देखना होगा. 2 जनवरी 2016 को पठानकोट और फिर 18 सितंबर 2016 को उरी में हमला हुआ. इसमें पाकिस्तान का हाथ था. इसके बाद से भारत ने अंतरराष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान को घेरने की कवायद शुरू की. इस्लामाबाद में 9-10 नवंबर 2016 को आयोजित सार्क सम्मेलन में कई मुल्कों ने हिस्सा न लेने का ऐलान किया था, जिनमें भारत प्रमुख था.'

स्वर्ण सिंह बताते हैं कि 2014 में जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे थे तो उन्होंने सार्क देशों के प्रमुखों को आमंत्रित किया, जिनमें तब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के तौर पर नवाज शरीफ भी शामिल हुए थे. नवाज शरीफ के पारिवारिक आयोजन में पीएम मोदी अचानक पाकिस्तान पहुंच गए. ये सारी कवायद इसलिए की जा रही थी कि दोनों देशों के बीच रिश्तों में मधुरता बनी रहे, लेकिन यह सब कुछ आगे नहीं बढ़ पाया और भारत को पठानकोट, उरी के रूप में जख्म झेलने पड़े.
स्वर्ण सिंह ने बताया कि इन दो घटनाओं के बाद भारत ने तय किया कि अंतरराष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान को अलग-थलग करना है. इसकी शुरुआत इस्लामाबाद में नवंबर 2016 में आयोजित सार्क सम्मेलन के बहिष्कार से हुई. भारत ने 6 जून 1997 को बैंकॉक में स्थापित बिम्सेटक को प्राथमिकता देना शुरू किया. जबकि इसके पहले भारत महज औपचारिकता निभाने के लिए बिम्सटेक के शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेता था, लेकिन पाकिस्तान के रवैयै को देखते हुए भारत ने इसे प्राथमिकता देना शुरू किया.

उन्होंने बताया कि भारत ने इसके तहत बिम्सटेक के वित्तीय सहयोग में 10 गुना की वृद्धि कर दी. बिम्सटेक के सदस्य देशों के साथ सैन्य अभ्यास की संख्या बढ़ाई गई. इसी रणनीति के तहत 15 सितंबर 2018 को पुणे में बिम्सटेक देशों का संयुक्त सैन्य अभ्यास आयोजित किया गया. इस अभ्यास में भारत के अलावा बांग्लादेश, भूटान, म्यांमार, श्रीलंका और थाईलैंड शामिल हुए. हालांकि नेपाल इसमें शामिल नहीं हो सका था.

स्वर्ण सिंह बताते हैं कि मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में बिम्सेटक देशों के शामिल होने को भारत प्रमुखता से प्रचारित प्रसारित करेगा, जिसका सीधा सा मकसद आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान के खिलाफ अपने आक्रामक रुख को जाहिर करना है.

क्या है बिम्सटेक

बैंकॉक में 6 जून 1997 को बांग्लादेश, भारत, श्रीलंका और थाइलैंड इनकॉमिक कॉर्पोरेशन नाम से एक क्षेत्रीय समूह की स्थापना हुई. 22 दिसंबर 1997 को म्यांमार भी इसका पूर्णकालिक सदस्य बन गया और इसका नाम BIMSTEC कर दिया गया. 2004 में नेपाल और भूटान भी इसके सदस्य बन गए. 31 जुलाई 2004 को इसके नाम बदलते हुए 'बे ऑफ़ बंगाल इनिशिएटिव फ़ॉर मल्टी-सेक्टरल टेक्निकल एंड इकनॉमिक कोऑपरेशन' कर दिया गया. इसका एजेंडा आर्थिक और तकनीकी सहयोग को बढ़ाना है.

Dailyhunt

More Related Blogs

Article Picture
Raj Singh 23 days ago 0 Views
Article Picture
Raj Singh 26 days ago 0 Views
Article Picture
Raj Singh 28 days ago 1 Views
Article Picture
Raj Singh 1 month ago 1 Views
Article Picture
Raj Singh 1 month ago 1 Views
Article Picture
Raj Singh 1 month ago 2 Views
Article Picture
Raj Singh 2 months ago 3 Views
Article Picture
Raj Singh 2 months ago 3 Views
Article Picture
Raj Singh 2 months ago 2 Views
Back To Top