PUBG गेम में खोया युवक, पानी की जगह एसिड पी गया

डॉक्टर मनन गोगिया ने बताया कि हैरान करने वाली बात तो यह कि इस हादसे के बाद भी युवक ने सबक नहीं सीखा. वह इलाज के दौरान भी PUBG खेलता रहा. उसे गेम खेलने की बुरी लत लगी है. समझाइश देने के बावजूद वह नहीं माना.

Posted 9 months ago in Other.

User Image
Anuj Mishra
196 Friends
4 Views
51 Unique Visitors
PUBG गेम की लत के कारण आए दिन हादसों की ख़बरें सामने आ रही हैं. ताजा मामला मध्य प्रदेश के भोपाल का है. यहां एक युवक पबजी गेम खेलने में इतना मशगूल हो गया कि उसने पानी की जगह एसिड पी लिया. मौका रहते उसे परिवार वाले अस्पताल लेकर पहुंचे जहां उसकी जान बचाई गई.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, युवक मूलतः छिंदवाडा से है और अभी वह भोपाल में रहता है. फिलहाल उसकी हालत खतरे से बाहर है. युवक का इलाज करने वाले डॉक्टर मनन गोगिया ने बताया कि 25 वर्षीय युवक घर के आंगन में PUBG गेम खेल रहा था. वह गेम में इस कदर मशगूल हो गया कि उसने पानी की जगह एसिड पी लिया.

इससे उसकी आंतें जल गई. उसे तत्काल अस्पताल भर्ती करवाया गया है. डॉक्टर गोगिया ने बताया कि एसिड पीने की वजह से उसके पेट में अल्सर हो गया है और आंतें चिपक गई है. बताया जा रहा है कि पीड़ित युवक को नागपुर के अस्पताल में रेफर कर दिया गया है. जहां उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है.

इलाज के वक्त भी खेलता रहा PUBG...

डॉक्टर मनन गोगिया ने बताया कि हैरान करने वाली बात तो यह कि इस हादसे के बाद भी युवक ने सबक नहीं सीखा. वह इलाज के दौरान भी PUBG खेलता रहा. उसे गेम खेलने की बुरी लत लगी है. समझाइश देने के बावजूद वह नहीं माना.

मध्य प्रदेश विधानसभा में उठी PUBG बैन करने की मांग...

तमिलनाडु के बाद पबजी गेम को मध्य प्रदेश में बैन करने की मांग उठी है. मंदसौर से बीजेपी विधायक यशपाल सिसोदिया ने मध्य प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र के आखिरी दिन सदन में पबजी गेम को बैन करने की मांग उठाई थी. उनका कहना है कि पबजी को बैन किया जाए. क्योंकि पढ़ाई प्रभावित हो रही है, उनकी परीक्षाएं सिर पर हैं.

सिसोदिया का कहना यह भी था कि पबजी गेम से बच्चे हिंसक हो रहे हैं. उनके पास लगातार अभिभावकों की ऐसी शिकायतें भी आ रही हैं. बच्चों के हिंसक होने के पीछे की सबसे बड़ी वजह इस गेम में हथियारों का होना है. जिसके इस्तेमाल से इसे खेलने वाले बच्चे हिंसक हो रहे हैं.

More Related Blogs

Back To Top