RBI ने प्राइवेट बैंक HDFC पर लगाया 1 करोड़ का जुर्माना

RBI ने यह जुर्माना धोखाधड़ी के बारे में सूचना नहीं देने और अन्य निर्देशों का अनुपालन नहीं करने को लेकर लगाया गया है.

Posted 3 months ago in Other.

User Image
Deepak lovewanshi
168 Friends
1 Views
1 Unique Visitors
रिजर्व बैंक (RBI) ने देश के निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक एचडीएफसी (HDFC) बैंक पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगा दिया. यह जुर्माना धोखाधड़ी के बारे में सूचना नहीं देने और अन्य निर्देशों का अनुपालन नहीं करने को लेकर लगाया गया है. आरबीआई ने कहा कि यह जुर्माना कुछ आयातकों द्वारा विदेशी मुद्रा भेजने के लिये जाली बिल प्रविष्टियां जमा करने से जुड़ा है.

केंद्रीय बैंक ने अपनी वेबसाइट पर लिखा है, ‘‘इस संदर्भ में जांच से आरबीआई के अपने ग्राहक को जानो (केवाईसी) / मनी लांड्रिंग निरोधक (एएमएल) तथा धोखाधड़ी के बारे में सूचना देने को लेकर नियमों का उल्लंघन पाया गया.’’ इस संदर्भ में एचडीएफसी बैंक को नोटिस जारी किया गया और पूछा गया कि निर्देशों का पालन नहीं करने को लेकर क्यों नहीं उस पर मौद्रिक जुर्माना लगाया जाए. 

NBFC सेक्टर पर RBI की नजर, आर्थिक स्थिरता को लेकर सेंट्रल बैंक सचेत
शीर्ष बैंक के अनुसार एचडीएफसी बैंक के जवाब पर विचार करने के बाद पिछले गुरुवार को जुर्माना लगाया गया. इस बीच, एचडीएफसी बैंक ने एक बयान में कहा, ‘‘उसने अपनी आतंरिक नियंत्रण व्यवस्था को मजबूत करने के लिये जरूरी कदम उठाये हैं ताकि ऐसी चीजें दोबारा नहीं हो.’’ RBI ने यह जुर्माना धोखाधड़ी के बारे में सूचना नहीं देने और अन्य निर्देशों का अनुपालन नहीं करने को लेकर लगाया गया है.

मुंबई: रिजर्व बैंक (RBI) ने देश के निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक एचडीएफसी (HDFC) बैंक पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगा दिया. यह जुर्माना धोखाधड़ी के बारे में सूचना नहीं देने और अन्य निर्देशों का अनुपालन नहीं करने को लेकर लगाया गया है. आरबीआई ने कहा कि यह जुर्माना कुछ आयातकों द्वारा विदेशी मुद्रा भेजने के लिये जाली बिल प्रविष्टियां जमा करने से जुड़ा है.

केंद्रीय बैंक ने अपनी वेबसाइट पर लिखा है, ‘‘इस संदर्भ में जांच से आरबीआई के अपने ग्राहक को जानो (केवाईसी) / मनी लांड्रिंग निरोधक (एएमएल) तथा धोखाधड़ी के बारे में सूचना देने को लेकर नियमों का उल्लंघन पाया गया.’’ इस संदर्भ में एचडीएफसी बैंक को नोटिस जारी किया गया और पूछा गया कि निर्देशों का पालन नहीं करने को लेकर क्यों नहीं उस पर मौद्रिक जुर्माना लगाया जाए. 

More Related Blogs

Back To Top